Home / ज्ञानवर्धक कहानियाँ / प्रार्थना के स्वर – ज्ञान से भरपूर हिंदी कहानी

प्रार्थना के स्वर – ज्ञान से भरपूर हिंदी कहानी

बृहदारण्यकोपनिषद की एक ख्यात प्रार्थना हैं –

मुझे असत्य से सत्य की ओर ले चलो। अन्धकार से प्रकाश की ओर ले चलो। और मृत्यु से अमृत की ओर ले चलो। प्रार्थना विष को छीनकर जीवन में अमृत के द्वार खोल देती हैं। अंधेरों और असत्य को मिटाकर प्रकाश और सत्य का वरदान हमारे जीवन में भर देती हैं।

 

प्रार्थना स्व – पर जीवन को मंगलमय बना देती हैं – अमृतमय बना देती हैं। संत एकनाथ भगवान् के परमभक्त थे। उनकी भक्ति भगवान् तक पहुँच चुकी थी। उनके जीवन की अनेक घटनाएं इस तथ्य को सिद्ध करती हैं। एक घटना हैं।

 

वे द्वार – द्वार पर जाकर भिक्षा ग्रहण करते थे। एक दिन वे एक महिला के द्वार पर पहुंचे। महिला उन्हें देखकर क्रोधाभिभूत हो उठी। गालियाँ दी और उसे अपमानित करके अपने द्वार से बिदा कर दिया। एकनाथ दुसरे दिन पुनः उसी द्वार पर गए। महिला ने दुसरे दिन भी उन्हें बहुत बुरा – भला कहा।

 

तृतीय दिन पुनः एकनाथ उसी महिला के द्वार पर पहुंचे और भिक्षा मांगी। वह महिला घर में पोछा लगा रही थी। एकनाथ को देखकर वह क्रोधित हो उठी और उन पर वह गार से भरा पोछा दे मारा। एकनाथ ने शांत और स्नेह भाव से वह पोछा लिया और अपनी झोपडी की ओर चल दिए।

 

महिला ने विचार किया – देखती हूँ की एकनाथ इस पोचे का क्या करते हैं। वह स्वयं को छिपाती हुई उनका अनुसरण करती हुई उनकी झोपडी तक पहुँच गयी और एक वृक्ष के पीछे खड़ी होकर देखने लगी।

 

एकनाथ ने उस पोचे को धोया। उसे सुखाया और उसमे से धागे / तार खींचकर बाती बनायी। फिर उसे घी में आर्द्र करके उसे एक ज्योति – पात्र में प्रज्ज्वलित करके प्रभु की प्रतिमा के समक्ष स्थापित कर दिया और प्रभु से प्रार्थना करने लगे – मेरे ईश ! जैसे यह ज्योति जल – जलकर आलोक बिखेर रही हैं , वैसे ही मेरी उस बहन का अंतर – ह्रदय भी आलोक बिखेरे जिसने यह बाती दान की हैं।

 

प्रभु ! मेरी बहन की यह अमूल्य भेंट स्वीकार करो। इस प्रकार प्रार्थना करते हुए एकनाथ की आँखें आंसूओं से तर गए। वह महिला यह सब देख – सुन रही थी। उसका कठोर ह्रदय न केवल कोमल होकर द्रवित हो उठा अपितु वह आमूल – चूल बदल गयी।

 

वह दौड़ कर एकनाथ के चरणों में गिरकर अपने अपराध के लिए क्षमा मांगने लगी। एकनाथ बोले – बहन ! देखा प्रभु कितने करुणामय हैं। उन्होंने मेरी प्रार्थना न केवल सुनी , कबूल भी कर ली हैं।

ये भी जरुर पढ़ें:

ज्याँ – क्लाड डेकॉक्स ने स्ट्रीट फर्नीचर की दुनिया पर राज किया 
चार्ल्स श्वाब की सफलता का राज
जेम्स लेवॉय सोरेन्सन, सीनियर 1921 – 2008
कैरी पैकर की सफलता के कुछ अनसुने बातें
क्लेरेंस बर्ड्सआई फ्रोज़न फ़ूड प्रोडक्ट्स के जनक
Charles M Schulz Peanuts Comic के संस्थापक
सबीर भाटिया हॉटमेल के संस्थापक

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. http://www.freeprachar.com के द्वारा पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस का प्रचार करें TOTALLY FREE

Leave a Reply