Home / ज्ञानवर्धक कहानियाँ / तितिक्षा हैं परम धर्म – ज्ञानवर्धक कहानी

तितिक्षा हैं परम धर्म – ज्ञानवर्धक कहानी

भगवान महावीर ने अपने शिष्यों को उपदेश देते हुए कहा था –

धर्म चिंतन में रत भिक्षु यह विचार करे कि तितिक्षा ही परम धर्म हैं।

 

साधना – पथ कंटकाकीर्ण पथ हैं। उस पथ के साधक को भगवान् महावीर ने परम धर्म तितिक्षा का उपदेश दिया था। महावीर ने कहा था – साधक ! क्लेशों , कष्टों से व्याकुल मत बन ! तेरी मंजिल निकट हैं। सहनशीलता और समता की ढाल लेकर अपने मार्ग पर बढ़ता चल।

 

तथागत बुद्ध का भी अपने भिक्षुओं के लिए यही उपदेश था।

एक बार तथागत बुद्ध और उनके शिष्य आनंद अनार्य प्रदेश में भ्रमण कर रहे थे। अनार्य लोगों ने बुद्ध और आनंद को बड़े कष्ट दिए। आनंद का ह्रदय कष्ट – कवलित हो उठा। उसने बुद्ध से कहा – प्रभो ! इस गाँव के लोग बहुत दुष्ट हैं , इसे छोड़ दो।

 

बुद्ध आनंद के ह्रदय की दशा का अनुभव करते हुए बड़े प्रेम से बोले – वत्स ! यदि दुसरे गाँव में भी यही स्वागत प्राप्त हुआ तो ?

हम उसे भी छोड़ देंगे। आनंद का उत्तर था।

 

बुद्ध ने पुनः अपनी बात आगे बढाई – और अगले गाँव में भी लोगों का यही व्यवहार मिला , तब ?

हम और आगे चले जाएंगे। आनंद बोला।

 

तथागत ने बड़े प्रेम से शिष्य का मस्तक सहलाते हुए पूछा – आनंद ! एक बात बताओ की कोई व्यक्ति यदि यह संकल्प लेकर चले की उसे बहुत बड़े दावानल को शांत करना हैं और यदि मार्ग में छोटी – छोटी चिंगारियां उसका मार्ग रोकना चाहे तो क्या उसे उनसे परास्त हो जाना चाहिए ?

आनंद बोला – नहीं प्रभु ! यदि वह व्यक्ति छोटी – छोटी चिंगारियों से ही विचलित हो उठेगा तो बड़े दावानल को कैसे बुझा पायेगा ?

 

बुद्ध बोले – वत्स ! हम भी जन्म – मरण रूप बड़े दावानल को उपशांत करने का संकल्प लेकर घर से निकले हैं हमें इन साधारण कष्टों रुपी चिंगारियों से भयभीत नहीं होना चाहिए। यदि हम इनसे भयभीत बने तो कदापि अपनी मंजिल को छू न पायेंगे।

 

आनंद तथागत के चरणों में झुक गए और पुनः सुदृढ़ होकर साधना में तत्पर हो गए।

ये भी जरुर पढ़ें:

गुलाबी होंठ चाहिए तो ये रहा सबसे आसान घरेलू उपचार

वजन बढ़ाने के उपाय, दुबलेपन से परेशान लोगो के लिए सरल उपचार

आधासीसी यानी आधे सिर का दर्द के लक्षण एवं घरेलू उपचार

उच्च रक्तचाप एवं निम्न रक्तचाप के लक्षण एवं घरेलू उपचार

गृध्रसी के लक्षण, कारण एवं घरेलू उपचार

अर्दित के लक्षण, कारण एवं घरेलू उपचार

हृदय रोग के लक्षण, कारण एवं घरेलू उपचार

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. http://www.freeprachar.com के द्वारा पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस का प्रचार करें TOTALLY FREE

Leave a Reply