Home / फैशन/सौंदर्य / शरीर और त्वचा दोनों के लिए गुलाब के अनगिनत फायदे

शरीर और त्वचा दोनों के लिए गुलाब के अनगिनत फायदे

गुलाब का फूल देखने में जितना सुंदर और दिलकश होता है, उतना ही उपयोगी यह हमारे शरीर के लिए भी है। वजन घटाने से लेकर दिल की बीमारी के इलाज तक में गुलाब काफी प्रभावी है। गुलाब के फूल की पंखुड़ियां और उससे बने गुलकंद में कई रोगों से लड़ने की क्षमता होती है। गुलाब के फल में और भी पौष्टिक तत्व जैसे फ्लेवोनॉइड्स, बायोफ्लवोनॉइड्स, साइट्रिक ऐसिड, फ्रक्टोज, मैलिक एसिड, टैनिन और जिंक की भरपूर मात्रा पाई जाती है। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें, गुलाब के सेहत से जुड़े ढेरों फायदों के बारे में…

गुलाब दिल से जुड़ी कई बीमारियों में उपयोगी होता है। अर्जुन के पेड़ की छाल को गुलाब की पंखुड़ियों के साथ उबालकर काढ़ा बना लें। यह काढ़ा दिन में आधा कप पिएं। इसको पीने से दिल से जुड़ी बीमारियां दूर भागती हैं। लेकिन अगर आपको दिल की कोई गंभीर बीमारी है तो बिना डॉक्टर की सलाह लिए कोई नुस्खा ना अपनाएं।

ये भी पढ़ें: मनुष्य की उत्तमकोटि – Man of good quality

गुलाब में प्राकृतिक रूप से विटमिन सी पाया जाता है जो हड्डियों के लिए फायदेमंद होता है। जोड़ों या हड्डियों के दर्द से परेशान लोग अगर हर दिन गुलकंद खाएं तो उन्हें इस दर्द में राहत मिलेगी।

गुलाब के फूल की पंखुड़ियों से बने गुलाब जल से कब्ज जैसी बीमारियों से राहत मिलती है। ये खून को साफ कर दिमाग को शांत करता है। इसके अलावा ये चिकन पॉक्स होने पर भी काफी राहत देता है।

गर्मियों में डिहाइड्रेशन की समस्या आम बात है। ऐसे में गर्मियों में गुलकंद खाने से शरीर में ताजगी आती है और पानी की कमी भी दूर होती है। हर रोज गुलकंद खाने से शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है।

ये भी पढ़ें: गीता में कृष्ण का उपदेश – Teaching of Krishna in the Bhagavad Gita

गुलाब में लैक्सेटिव और ड्यूरेटिक प्रचूर मात्रा में पाए जाते हैं शरीर के मेटाबॉलिज्म को ठीक करता है और पेट के टॉक्सिन्स हटाता है। मेटाबॉलिज्म तेज होने से शरीर में कैलरी लॉस तेजी से होता है और वजन पर नियंत्रण रखने में मदद मिलती है।

अगर मुंह में छाले हो गए हों तो दिन में दो बार गुलकंद खाइए, ये पेट में जाकर ठंडक पहुंचाता है और छालों पर मरहम का काम करता है।

गुलाब में ऐंटीऑक्सिडेंट पाया जाता है जिससे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। सुबह खाली पेट 2 या 3 ताजे गुलाब की पंखुड़ियां खाने से शरीर स्वस्थ्य बना रहता है। source

ये भी पढ़ें: सेवा ही मेरा संन्यास हैं – भगवान् महावीर

ये भी पढ़ें: विनम्रता हैं अपरिसीम बल – Humility is the unreliable force

ये भी पढ़ें: लोभ पाप का बाप है – Greed is the father of sin

ये भी पढ़ें: झूठा सच या सत्यमय असत्य – ज्ञान से भरपूर हिंदी कहानी

ये भी पढ़ें: प्रार्थना के स्वर – ज्ञान से भरपूर हिंदी कहानी

ये भी पढ़ें: जो दे दिया जाता हैं, वही शेष रहता हैं – ज्ञान से भरपूर

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. http://www.freeprachar.com के द्वारा पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस का प्रचार करें TOTALLY FREE

Leave a Reply