Home / ज्ञानवर्धक कहानियाँ / संतोषम परम सुखम – ज्ञानवर्धक कहानी

संतोषम परम सुखम – ज्ञानवर्धक कहानी

तथागत बुद्ध का एक वचन हैं –

संतुष्टि परम संपदा हैं।  असंतोष संपदाशाली को भी दरिद्र बना देता हैं , और संतोष निर्धन और अभाव्ग्रस्त को परमसुख के वरदान से भर देता हैं।

 

एक बार पाटलिपुत्र में भगवान् बुद्ध प्रवचन कर रहे थे। प्रश्नोत्तर चल रहे थे। आनंद ने तथागत से पूछा – भगवन ! आपके श्रोताओं के इस विशाल भीड़ में सबसे अधिक सुखी कौन हैं ? श्रोताओं में राजा , मंत्री और बहुत सारे श्रीसंपन्न लोग बैठे हुए थे। बुद्ध ने श्रोताओं की ओर दृष्टिपात करते हुए सबसे पीछे खड़े एक फटेहाल की ओर इंगित करते हुए कहा – आनंद ! वह व्यक्ति सबसे सुखी हैं।

 

आनंद को बड़ा आश्चर्य हुआ। उसने कहा – भगवन ! आपके राजा , मंत्री और अनेक श्रीसंपन्न  लोगों को छोड़कर , उस फटेहाल व्यक्ति को सबसे सुखी किस आधार पर कहा ?

 

रोचक संवाद था तथागत और आनंद के बीच। श्रोता बुद्ध का समाधान जानने को उत्सुक थे।

तथागत ने राजा से कहा – राजन ! तुम्हें क्या चाहिए ? बुद्ध को स्वयं पर निहाल होते हुए देख राजा बोला – प्रभु ! मैं चाहता हूँ की मेरे राज्य की सीमाएं थोड़ी और विशाल हो जाय।

 

फिर बुद्ध ने मंत्री और अन्य श्रीसंपन्न लोगों से उनकी चाह जाननी चाही। सभी ने अपनी चाह का उल्लेख कर दिया। उसके पश्चात बुद्ध ने उस दरिद्र अपने पास बुलाया और पूछा – भाई ! तुम्हें क्या चाहिए ? उस व्यक्ति ने तथागत को प्रणाम करते हुए कहा – भंते ! मेरी इतनी सी चाह हैं कि मेरे भीतर की चाह ही मिट जाए। शेष मुझे कुछ नहीं चाहिए।

 

तथागत ने समाधान की भाषा में कहा – आनंद ! चाह के शेष रहते मनुष्य सर्वसुखी नहीं रह सकता हैं। जिसकी चाह मिट गयी वही सर्वोच्च सुखी हैं। इसीलिए कहा गया हैं –

 चाह गयी चिन्ता मिटी , मनवा बेपरवाह। जिनको कछु न चाहिए वे शाहन के शाह।।

ये भी जरुर पढ़ें:

अलेक्जेंडर ग्राहम बेल टेलीफोन के आविष्कारक
जेम्स एच क्लार्क के जीवन की कहानी
सुभाष चंद्रा के सफलता की कहानी
eBay Founder पियेर ओमिदयार के सफल जीवन
गॉर्डन मूर और रॉबर्ट नॉइस दुनिया की सफल जोड़ी
फ्रैंक वूलवर्थ एक सफल उद्योगपति
मैडम सी. जे. वाकर के सफल जीवन

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. http://www.freeprachar.com के द्वारा पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस का प्रचार करें TOTALLY FREE

Leave a Reply