Home / ज्ञानवर्धक कहानियाँ / राजा रानी में सुलह
king and queen
king and queen

राजा रानी में सुलह

एक दिन तेनालीराम को गुप्तचर द्वारा सन्देश मिला कि महारानी बड़ी मुसीबत में हैं और उन्होंने आपको तुरंत ही राजमहल में बुलाया हैं।

जब तेनालीराम के सम्मुख उपस्थित हुआ तो उसे पता चला कि एक दिन राजा कृष्णदेव रानी को अपने हाथों से लिखा हुआ नाटक सुना रहे थे और नाटक की कहानी सुनते – सुनते उबासी आ गयी। राजा इस कारण महारानी से नाराज हो गए और वहाँ से चले गए और तब से कई दिन बीत गए, लेकिन महाराज इस ओर आये नहीं हैं। महारानी ने इस बारे में तेनालीराम से सफाई देते हुए कहा, इसमें मेरा कोई दोष नहीं था। मैंने महाराज से क्षमा माँगी पर उन पर कोई असर नहीं हुआ। तेनालीराम,अब तुम्हीं मेरी इस समस्या को सुलझा सकते हो। और हमारी आपस में सुलह करवा सकते हो।

ये भी पढ़ें: shivling (शिवलिंग) के बारे मे जानिये पूरी कहानी

आप बिलकुल चिंता न करें, महारानी मैं अपनी ओर से पूरा प्रयत्न करूंगा। तेनालीराम ने महारानी को दिलासा देते हुए कहा।

फिर वहाँ से तेनालीराम दरबार में पहुंचा। राजा कृष्णदेव इस समय अपने राज्य के किसी क्षेत्र में चावलों की फसल की पैदावार पर अपने मंत्रियों से सलाह कर रहे थे।

उस क्षेत्र में चावल की उपज बढ़ाना बहुत ही जरूरी हैं। राजा ने कहा, हमारे अब तक किये गए प्रयास फलीभूत हुए है लेकिन समस्या अभी पूरी तरह नहीं सुलझ पायी हैं।

महाराज ! तेनालीराम ने चावलों की एक किस्म का बीज राजा को दिखाते हुए कहा, अगर इस बीज की रोपाई की जाए तो उस क्षेत्र में चावलों की पैदावार इस साल की अपेक्षा तिगुनी हो जाएगी।

ये भी पढ़ें: चेहरे की झुर्रियां मिटाने का नया तरीका

यह तो बहुत अच्छा होगा, लेकिन इसके लिए शायद विशेष तरह की खाद की आवश्यकता पड़ेगी। राजा ने कहा।

नहीं महाराज, इसके लिए केवल इतना जरूरी हैं कि इसे बोने, सींचने और काटने वाला व्यक्ति ऐसा हो, जिसे न कभी उबासी आयी हो और न आगे उसे उबासी आये। तेनालीराम ने कहा।

तुम जैसा मूर्ख व्यक्ति आज तक नहीं देखा। राजा ने कहा, क्या संसार में ऐसा कोई व्यक्ति हैं, जिसे कभी उबासी न आती हो ?

राजा कृष्णदेव ने उसे डपटते हुए कहा।

मैं तो भूल ही गया था महाराज कि मैं महामूर्ख हूँ। तेनालीराम बोला, अच्छा हुआ कि आपने मुझे यह बात याद दिला दी महल में अभी जाकर महारानी साहिबा को अपनी इस मूर्खता के बारे में बताता हूँ।

ये भी पढ़ें: Soft glowing skin पाने के लिए कुछ खास gharelu tips

नहीं, नहीं, तुम्हें कष्ट करने की जरूरत नहीं हैं, मैं स्वयं जाकर उन्हें बता दूंगा। राजा ने कहा।

पूरे दरबार में तभी हंसी का सामूहिक ठहाका गूँज उठा।

दरबार के विसर्जन के बाद महाराज महारानी के महल में गए। इस तरह दोनों में सुलह हो गयी। फिर राजा कृष्णदेव ने तेनालीराम को अशर्फियों से भरी एक थैली भेंट की और महारानी ने भी तेनालीराम की सूझ पर प्रसन्न होकर बहुमूल्य उपहार दिए। और तेनालीराम का तो कहना ही क्या था। उसकी तो पौ बारह हो गयी थी।

ये भी पढ़ें: गर्दन के कालेपन दूर करने के आसान घरेलू उपाय

ये भी पढ़ें: होठों के ऊपरी बालों से परेशान है तो ये है आसान घरेलू उपाय

ये भी पढ़ें: क्या आप पैर या शरीर के किसी और जगह की सूजन से परेशान है?

ये भी पढ़ें: अचार खाने की आदत से हो सकती है स्वास्थ के लिए बेहद घातक

ये भी पढ़ें: हरा नमक क्या है और क्यों बहुत जरुरी है खाना?

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. http://www.freeprachar.com के द्वारा पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस का प्रचार करें TOTALLY FREE

Leave a Reply