Home / स्वर्णिम सिद्धांत / रचनात्मकता और कल्पनाशीलता से लगातार रूढ़ियों को कुंठित करें

रचनात्मकता और कल्पनाशीलता से लगातार रूढ़ियों को कुंठित करें

कभी कभार रूककर सपने भी देखें, अपनी कल्पना को विचरण करने दे और इसे ताज़ी हवा लेने का मौका दें, अधिक रचनात्मक ढंग से सोचना कभी भी शुरू किया जा सकता है, अक्सर कल्पनाशीलता की कमी के कारण ही इंसान अपनी पूरी क्षमता का उपयोग नहीं कर पाता है। नए विचार सोचना दाढ़ी बनाने की तरह है, अगर आप हर दिन यह काम नहीं करेंगे, तो आपकी हालत ख़राब हो जाएगी, नए रोमांचक और शक्तिशाली विचारों का सतत प्रवाह बनाए रखे, और उनपर तत्काल अमल करें।

 

अपनी रचनात्मकता और कल्पनाशीलता से रूढ़ियों को लगातार कुंठित करें, मनुष्य की अवसरों की सीमा वही है, जो उसकी कल्पनाशीलता की सीमा है। लेकिन लोगों में इतनी कम कल्पनाशीलता होती है की दस हज़ार लोग दूसरों की संगीत रचनाएँ बजाते है जबकि मौलिक संगीत रचना सिर्फ एक व्यक्ति ही तैयार करता है, आपके सपने आपकी आपकी महानता का ब्लूप्रिंट है, इतिहास उठाके देख लें,

 

जितने भी लोगों ने महान काम किये है, वे सभी स्वप्नदर्शी थे, शयद वही लोग सबसे ज्यादा सफल होते है, जो सबसे ज्यादा सपने देखते है, उथला चिंतक शायद ही कभी गहरा प्रभाव छोड़ पाता है, हम बड़े काम करेंगे या नहीं, यह हमारी इच्छा से तय नहीं होता, जैसा की आमतौर पर माना जाता है, यह तो इस बात से तय होता है, हममे भविष्य दृष्टि है या नहीं, जब आपमें अदिश्य को भी देखने की क्षमता होती है, सिर्फ तभी आप असंभव काम कर सकते है।

 

संभालना सिख लेते है, तो जल्दी ही आपको एक दर्जन खरगोश मिल जाते है, अगर आप हमेशा उत्सुकः बने रहेंगे, तो जिंदगी के हर क्षेत्र में अधिकतम लाभ प्राप्त कर सकते है, महत्वपूर्ण बात यह है की सवाल पूछना कभी बंद ना करें, कभी भी अपनी जिज्ञाषा ठंडी ना होने दें, डेक्स्टर एगर कहते है, अपना सपना किसी को चुराने न दें।

 

अगर आप अपने सपने को सच करना चाहते है, तो आपके पास एक सपना तो होना ही चाहिए, जब तक सपना न हो, तबतक कुछ भी नहीं हो होता, आप जितने ज्यादा सपने देख सकते है, आप उतने ही ज्यादा सफल हो सकते है, विचार सितारों की तरह होते है, हम कभी उन तक पहुंच नहीं पाते है, लेकिन समुन्द्र के जहाजियों की तरह हम उनके द्वारा अपनी दिशा तय करते है,

 

चुकी सपने देखने में एक पैसा भी खर्च नहीं होता है, इसलिए अपनी कल्पशीलता बढ़ने से आपको कभी भी घाटा नहीं होता है, चीजें जैसी है उन्हें उसी रूप में न देखें, उन्हें तो उस रूप में देखे जैसे वो हो सकती है, भविष्य दृष्टि हर चीज का मूल्य बढ़ा देती है, अचानक कौंधने वाला एक विचार ही दस लाख डॉलर के बराबर ही मूल्यवान हो सकता है।

 

ईश्वर ने हमें एक अधूरी दुनिया दी है, ताकि हम भी रचना करने का आंनद उठा सके और सूजन की संतुष्टि पा सके, टेड एंगस्ट्राम इस बात को स्पष्ट करते हुए कहते है, हममे से हर एक में रचनात्मकता  होती है, यह हमारी सरंचना का हिस्सा है, जब हम ईश्वर की दी हुयी रचनात्मक शक्तियों का दोहन नहीं करते है, तो हम ईश्वर की इच्छा के अनुरूप नहीं जीते है।

 

मै सपनो का बहुत प्रवल समर्थक हूँ, दुर्भाग्य से सपने जिंदगी में सबसे पहले शिकार बनते है, लोग वास्तविकता के खातिर जितनी जल्दी छोड़ देते है, उतनी जल्दी किसी दूसरी चीज को नहीं छोड़ते है, व्यबहारिक लक्ष्य वाले यथार्थवादी लोग शायद ही कभी लम्बे समय में स्वप्नदर्शियों जितने यथार्थवादी या व्यावहारिक होते है, जो अपने सपनो का पीछ करते है।

नोट: आपको सिर्फ एक विचार की जरुरत है, रचनात्मक ढंग से सिर्फ जीने का हौसला रखें।

ये भी जरुर पढ़ें:

रूथ हैंडलर का सफल जीवन सफर

लेवी स्ट्रॉस जींस कपड़े के जनक

चार्ल्स मेरिल के जीवन के सफल अध्याय

Hugh Hefner के जीवन के सफलता की कहानी

एनरो रूबिक की संघर्ष भरी कहानी

पोलेराइड कैमरे का जन्मदाता – एडविन हरबर्ट लैंड

जॉर्ज ईस्टमैन ने कोडक ईस्टमैन कैमरे का आविष्कार किया

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. http://www.freeprachar.com के द्वारा पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस का प्रचार करें TOTALLY FREE

Leave a Reply