विनम्रता हैं अपरिसीम बल – Humility is the unreliable force

विनय को आत्महित का मार्ग बताते हुए भगवान् महावीर स्वामी उत्तराध्ययन सूत्र में फरमाते हैं – जो अपना हित चाहता हैं , उसे अपनी आत्मा को विनय में स्थापित करना चाहिए।   विनम्रता उच्चता की प्रतीक हैं , और अहं नीचता को प्रगट करता हैं। विनम्र सर्वत्र प्रशंसनीय होता हैं। …

Read More »

लोभ पाप का बाप है – Greed is the father of sin

महाश्रमण महावीर ने लोभ को सबसे निकृष्ट बताते हुए उत्तराध्ययन सूत्र में फरमाया हैं :- लोभ समस्त सद्गुणों को नष्ट करने वाला हैं। लोभ मनुष्य से उसका धर्म , कर्म और मर्यादा छीन लेता हैं। लोभ के जाल – जंजाल में उलझा व्यक्ति पतन की चरम सीमाओं तक पहुँच जाता …

Read More »

झूठा सच या सत्यमय असत्य – ज्ञान से भरपूर हिंदी कहानी

सत्य क्या हैं और असत्य क्या हैं – इस भेद को स्पष्ट आख्यायित करने वाला देवी भागवत का एक सुन्दर श्लोक हैं – वह सत्य नहीं हैं , जिसमें हिंसा भरी हो। यदि दयायुक्त हो तो असत्य भी सत्य ही कहा जाता हैं। जिसमें मनुष्यों का हित होता हैं , …

Read More »

प्रार्थना के स्वर – ज्ञान से भरपूर हिंदी कहानी

बृहदारण्यकोपनिषद की एक ख्यात प्रार्थना हैं – मुझे असत्य से सत्य की ओर ले चलो। अन्धकार से प्रकाश की ओर ले चलो। और मृत्यु से अमृत की ओर ले चलो। प्रार्थना विष को छीनकर जीवन में अमृत के द्वार खोल देती हैं। अंधेरों और असत्य को मिटाकर प्रकाश और सत्य …

Read More »

जो दे दिया जाता हैं, वही शेष रहता हैं – ज्ञान से भरपूर

आदित्त जातक में नश्वर और अनश्वर का विवेचन करते हुए कहा गया हैं – जलते हुए घर में से व्यक्ति जिस वस्तु को निकाल लेता हैं , वही उसकी होती हैं। न कि वह जो वहाँ जल जाती हैं। इसी प्रकार यह संसार ज़रा और मरण से जल रहा हैं। …

Read More »

देहातीत होता हैं साधक – प्रभुवीर

श्रमण के जीवन्मुक्त स्वरुप का वर्णन करते हुए औपपातिक सूत्र में प्रभुवीर का एक वचन हैं – श्रमण जीने की आशा और मरण के भय से विप्रमुक्त होते हैं।   साधक देहातीत होता हैं। जीवन और मृत्यु की घटनाएं देह के धरातल पर ही घटित होती हैं। साधक देह के …

Read More »

संतोषम परम सुखम – ज्ञानवर्धक कहानी

तथागत बुद्ध का एक वचन हैं – संतुष्टि परम संपदा हैं।  असंतोष संपदाशाली को भी दरिद्र बना देता हैं , और संतोष निर्धन और अभाव्ग्रस्त को परमसुख के वरदान से भर देता हैं।   एक बार पाटलिपुत्र में भगवान् बुद्ध प्रवचन कर रहे थे। प्रश्नोत्तर चल रहे थे। आनंद ने …

Read More »