Home / लाइफ स्टाइल / ‘ओबामा केयर’ जैसा ही ‘मोदी केयर’ जानिए कितनी हकीकत कितना अफसाना
obama care vs modi care
obama care vs modi care

‘ओबामा केयर’ जैसा ही ‘मोदी केयर’ जानिए कितनी हकीकत कितना अफसाना

लेटेस्ट जानकारी: बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गरीबों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए अमेरिका में ‘ओबामा केयर’ की तर्ज पर ‘मोदी केयर’ जैसी योजना का ऐलान किया. सरकार ने 50 करोड़ लोगों को पांच लाख रुपये सालाना बीमा कवरेज की घोषणा की. इन बीमा योजनाओं का प्रीमियम सरकार देगी. लेकिन यह भी सच है कि दो साल पहले किए गए ऐलान पर अभी कुछ नहीं हुआ है.

जिस समय वित्तमंत्री संसद में विराट स्वास्थ्य बीमा योजना का ऐलान कर रहे थे 50 साल के रोहतास राम मनोहर लोहिया अस्पताल के बाहर धक्के खा रहे थे. केवल नौ हज़ार रुपये तनख्वाह वाले इस मज़दूर के पास पहले से चली आ रही कोई सरकारी बीमा योजना नहीं है. रोहतास ने एनडीटीवी इंडिया को बताया कि आदमी के लिए बीमा योजना सुविधाजनक विकल्प नहीं है क्योंकि सरकारी अस्पतालों की हालत खराब है और निजी अस्पताल बहुत महंगे हैं.

रोहतास की तरह करोड़ों गरीबों के पास कोई स्वास्थय बीमा योजना नहीं है. पहले यूपीए सरकार के वक्त 30 हज़ार रुपये सालाना के हेल्थ कवरेज का ऐलान हुआ जिसके लिए सालाना कुल 1100 करोड़ प्रीमियम खर्च करना पड़ता है. एनडीए सरकार ने दो साल पहले एक लाख रुपये के कवरेज का वादा किया, जिसका फायदा अब तक किसी को नहीं मिल पाया, यानी योजना ठप है.

ये भी पढ़ें: जीवन की इन परिस्थितियों में जो साथ दे, वही मनुस्य है आपका असली दोस्त

अब सरकार 50 करोड़ लोगों को पांच साल सालाना हेल्थ बीमा का सब्ज़बाग दिखा रही है. 30 हज़ार रुपये की बीमा योजना के लिए सरकार को 750 रुपये प्रीमियम देना होता है और इस हिसाब से पांच लाख रुपये बीमा कवरेज के लिए 12000 रुपये की किस्त जमा करनी होगी. जानकारों के मुताबिक इतना बीमा देने के लिए सरकार को हर साल कुल सवा लाख करोड़ रुपये का प्रीमियम देना होगा जो केंद्र और राज्य सरकारों के सम्मिलित हेल्थ बजट से अधिक है.

हेल्थ इकॉनोमिस्ट इंद्रनील मुखर्जी का कहना है, ‘नेशनल हेल्थ मिशन जो कि केंद्र सरकार की सबसे महत्वपूर्ण योजना है जिसके तहत बच्चों और महिलाओं को सरकारी स्वास्थ्य सेवा भी मुहैया कराई जाती हैं. उसमें 770 करोड़ की कटौती हुई है. इससे बच्चों और माताओं की मृत्यु दर बढ़ने का डर है, दूसरी ओर सरकार ने जो सरकारी बीमा योजना के विस्तार का ऐलान किया है उसका प्रीमियम ही अगर देखें तो केंद्र सरकार के पिछले साल के कुल स्वास्थ्य बजट का तीन गुना बनता है. 2015 के आंकड़े हमारी पास पूरी तरह उपलब्ध हैं जिसमें केंद्र और राज्यों का  कुल स्वास्थ्य बजट 1 लाख 30 हजार करोड़ था और सरकार ने जो ऐलान किया है उससे कुल प्रीमियम ही इतना या इससे ज्यादा ही बनेगा.

 ये भी पढ़ें: लक्ष्मी जी इन पांच चीजों को रखने से देगी आपके घर में तुरंत दस्तक

सरकार अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के वक्त प्रचलित हुई ‘ओबामा केयर’ की तरह ‘मोदी केयर’ शुरू करना चाहती है लेकिन सरकार के मौजूदा आंकड़े को सही भी मानें तो अभी देश की 25 प्रतिशत आबादी ही आज सरकारी बीमा कवरेज में है. बेहतर सरकारी अस्पतालों के अभाव में उन्हें ज्यादातर खर्च अपनी जेब से ही करना पड़ता है और अगर वे निजी अस्पतालों में जाते हैं तो लूटे जाते हैं. source

ये भी पढ़ें: चाणक्य नीति: ऐसे हालात हो तो वह से तुरंत भाग जाना चाहिए

ये भी पढ़ें: देवी देवताओं का फूल कनेक्शन – पूजा करते समय किस देवी देवताओं को कौन सा फूल चढ़ाते है

 ये भी पढ़ें: क्या आप जानते है: कोई आपके पैर छुए तो आपको क्या और क्यों करना जरूर चाहिए

ये भी पढ़ें: शादी में फेरों के दौरान दूल्हे के बायीं ओर ही क्यों होती है दुल्हन?

ये भी पढ़ें: मैं गेट से जुड़े कुछ खास उपाय, जो कभी नहीं आने देते घर या दुकान में परेशानी

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. http://www.freeprachar.com के द्वारा पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस का प्रचार करें TOTALLY FREE

Leave a Reply