Home / लाइफ स्टाइल / एक भी महान काम अचानक नहीं हुआ है

एक भी महान काम अचानक नहीं हुआ है

मैं दूसरों के लिए आमतौर पर जो प्रार्थनाएं करता हूं उनमें से एक इस तरह है हे ईश्वर आपने जिस काम के लिए उन्हें दुनिया में भेजा है कृपया उसके छोटे अवसर उसकी राह में भेज दें जब हम छोटे अफसरों मैं आस्थावान रहते हैं तो ईश्वर हमसे कहता है तुमने इस छोटे काम में आस्था दिखाई है इसलिए अब मैं तुम्हें और बड़ी जिम्मेदारियां सौप रहा हूं उन सुखद कामों को करना शुरू करो जो मैं तुम्हें सौपा है।

 

कुछ लोग खुद को इतना बड़ा मान लेते हैं कि बे छोटे काम करना पसंद नहीं करते इस वजह से शायद वह लोग इतने छोटे लगने लगते हैं कि उनसे बड़े काम करने को कहा ही नहीं जाता है, महान काम की शुरुआत अक्सर छोटे अवसर से ही होती है।

 

कोई भी महान काम अचानक नहीं होता है हर चीज धीरे-धीरे मूर्त रूप से लेती है अगर आप बहुत कम कर सकते हैं तो भी यह फैसला न करें कि आप कुछ नहीं करेंगे क्योंकि इतने छोटे काम से कोई फायदा नहीं हो सकता है, यह ना भूले कि उस छोटे से काम में एक बड़ा अवसर छुपा है छोटी-छोटी चीजें से बहुत फर्क पड़ता है इसलिए छोटे कामों में सफल होने के हर संभव प्रयास करते रहे।

 

जब तक आप छोटे काम अच्छी तरह से नहीं कर पाएंगे तब तक आप कभी बड़े काम नहीं कर पाएंगे, सभी मुश्किल चीजों की शुरुआत किसी आसान चीज से होती है सभी बड़ी चीजों की शुरुआत किसी छोटी सी चीज से होती है प्रगतिशील और अप्रगतिशील लोगों में एक बड़ा फर्क है कि प्रगतिशील व्यक्ति छोटे विचारों और अवसरों की तरफ बहुत ध्यान देते हैं।

 

सफल होने के लिए काम शुरू करने का साहस जरूरी है दिवास्वपन देखने वाले लोगों और सफल लोगों में सिर्फ साहस का ही फर्क होता है, शुरूआत किसी भी काम का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है काम अधूरा छोड़ने वाले से ज्यादा बुरा व्यक्ति वह होता है, जो शुरू करने से डरता है हिम्मत करके काम शुरु करने भर से ही 90% सफलता मिल जाती हो सकता है, कोशिश करने के बावजूद आप सफल और निराश हो जाए, लेकिन अगर आप कोशिश ही नहीं करेंगे तो आपके असफलता तय है।

 

यह बात हमेशा याद रखें रास्ते का ज्ञान और उस पर चलना दो अलग-अलग बातें है, रास्ते का ज्ञान कभी चलने का विकल्प नहीं बन सकता है, कदम-दर-कदम रोमांच खोजें पहला कदम सबसे मुश्किल होता है इसी वजह से बहुत से लोग असफल हो जाते हैं, चुकी वे कभी शुरू ही नहीं कर पाते, इसलिए वह कभी पहुंच भी नहीं पाते है, जड़ता को नहीं जीत पाते वे काम को शुरू ही नहीं कर पाते हैं।

 

शुरू करने का जोखिम ले, कोई भी कोशिश अकर्मण्यता से बेहतर है जब तक आप कोशिश ना करें, तब तक आप यह नहीं जान सकते हैं कि आप क्या कर सकते हैं पेड़ों की तरह लोग भी या तो विकास करते हैं या फिर सूखने लगते हैं, इस तरह खड़े रहने जैसा कोई चीज नहीं होती है जो आप कर सकते है, कर दे, वह हमेशा आपका अगला कदम होना चाहिए।

ये भी जरुर पढ़ें:

बन्दर का महत्वपूर्ण ज्ञान समस्त प्राणी के लिए – हिंदी कहानी

महाकवि गोस्वामी तुलसीदास के जीवन परिचय – हिंदी कहानी

आत्मसंतुष्टि से ज्यादा ख़ुशी और किसी में नहीं – हिंदी कहानी

अन्त ही अहंकार की आखिरी मार्ग – हिंदी कहानी

नरेंद्र मोदी की सफलता की कहानी – क्रिएटिव थिंकिंग

महाराणा प्रताप जिसने स्वाभिमान के साथ कभी समझौता नहीं की – हिंदी कहानी

उड़ान ही आपकी पहचान – हिंदी कहानी

रात के तूफान के बाद सुबह का सूरज – हिंदी कहानी

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. http://www.freeprachar.com के द्वारा पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस का प्रचार करें TOTALLY FREE

Leave a Reply