Home / स्वर्णिम सिद्धांत / काम नहीं करते तो साबित होता है कि खुद पर विश्वाश नहीं है आपको

काम नहीं करते तो साबित होता है कि खुद पर विश्वाश नहीं है आपको

लोग आपका मूल्यांकन आपके इरादों से नहीं बल्कि आपके कामों से करते हो सकता है आपका दिल सोने का हो, लेकिन यह तो ज्यादा उबले अंडे के बारे में भी सही है, 1000 शब्दों का भी उतना दूरगामी असर नहीं होगा जितना एक काम का होगा, दिशा पता होगी तो कर्म अपने आप होगा अच्छे इरादे ही काफी नहीं है हमेशा उचित कर्म भी करें। अगर आप काम नहीं करते हैं तो इसका मतलब यह है कि आपको सचमुच विश्वास नहीं है यह चीजें जानने पर तुम सुखी हो जाओगे बशर्ते तुम उन्हें करो।

 

प्रार्थना कभी अकर्मण्यता का बहाना नहीं बनना चाहिए मुझे लगता है कि कई बार ईश्वर हमसे भी उसी तरह बोलता है जिस तरह उसने मोज़ेस से कहा था प्रार्थना करना छोड़ो और लोगों को लेकर जाओ, आगे बढ़ो! ज्यादातर प्रार्थनाओं का जवाब तभी मिलता है जब आप उसके साथ कर्म भी करते हैं।

 

कुछ लोग अपना सारा समय सही काम की खोज में बिता देते हैं लेकिन वे उसे करने का समय नहीं निकाल पाते, याद रखें सही काम क्या है यह जानने के बावजूद उसे ना करना पाप है, आपके जीवन की कहानी पेन से नहीं बल्कि आपके कर्मों से लिखी जाती है, कुछ ना करना कुछ ना बनने का रास्ता है।

 

आलस्य के कारण हजार मुश्किलें पैदा होती है शैतान का सबसे बड़ा हथियार सक्रिय पापी नहीं बल्कि निष्क्रिय ईसाई होता है शैतान कुछ लोगों को ललचाता है, लेकिन आलसी आदमी तो शैतान को ललचाता है, यह सुनिश्चित करें कि आप सही काम करने में जुटे रहें, ताकि शैतान जब भी आपके पास आया आप उसे हमेशा व्यस्त दिखे, कर्म करने से डर कम होता है जब हम अपने डरो को चुनौती देते हैं तो हम उन्हें जीत लेते हैं, जब हम अपनी समस्याओं से जूझते हैं तो उनकी पकड़ ढीली हो जाती है जब हम भयावह चुनौतियों का सामना करने का साहस दिखाते हैं तो हम अपनी स्वतंत्रता का द्वार खोल लेते हैं।

 

प्रगति अपने आप नहीं होती है यह आम धारणा गलत है की प्रेरणा कर्म की ओर ले जाती है सच्चाई इसके बिल्कुल विपरीत है। क्रम प्रेरणा से पहले आता है प्रेरित होने का इंतजार ना करें सांड को सींघ से पकड़ें और उसे तब तक न छोड़े जब तक कि वह दया की भीख ना मांगने लगे।

 

आलस एक बोझ है आजीविका कमाने के आसान तरीकों की खोज करने से हम जितना ज्यादा थकते हैं उतना किसी दूसरी चीज से नहीं थकते आलस बढ़ता रहता है और जल्दी ही यह हमें गरीबी तक पहुंचा देता है, जब हम बगैर कुछ दिए कुछ पाने की कोशिश करते हैं, तो हम सबसे कमजोर होते हैं कड़ी मेहनत से अमीरी आती है, बेमतलब खेलने से गरीबी आती है।

 

जो व्यक्ति सिर्फ बोलता रहता है लेकिन कभी काम नहीं करता ,वह फूलों की उस क्यारी की तरह है जो खरपतबार से भरी है, अपने सपनों के चारों तरफ खरपतवार न उगने दें, आप जो बनना चाहते हैं उसके बारे में सिर्फ सपने देखते रहने से कुछ नहीं होगा, सिर्फ यह होगा कि आपके पास जो है, वह भी बर्बाद हो जाएगा, बहुत से लोग महान सफलता के सपने देखते हैं, लेकिन कुछ लोग जागकर मेहनत करते हैं, और उन्हें साकार कर देते हैं, हेनरी फोर्ड ने एक बार कहा था आपकी प्रतिष्ठा इस बात से नहीं बन सकती कि आप भविष्य में क्या करने वाले हैं, आलस्य त्याग दें। यह उस जंग की तरह है जो सबसे चमकदार धातुओं को भी मैला कर देता है।

नोट: हमें कबूतर और कठफोड़वे का मिला-जुला रुप होना चाहिए, वह न सिर्फ संदेश पहुंचाता है, बल्कि दरवाजा भी खटखटाता है।

ये भी जरुर पढ़ें:

बुखार के प्रकार कारण एवं घरेलू उपचार

पुरुषों की हर तरह कमजोरी का नामोनिशान मिटाने के कुछ देसी तरीके

स्कर्वी, रक्ताल्पता, मधुमेह, गठिया, मोटापा, गंजापन, कैंसर (चयापचय) का घरेलू उपचार

आग से जलना, नकसीर, विषाक्तता, सर्पविष, दम घुटना, रक्त स्राव, दिल का दौरा का प्रथमिक उपचार

चेहरे से दाग धब्बे और झाइयों हटाएँ और नई चमक पाएं इस घरेलू उपचार से

दिल का दौरा, बचाव एवं कुछ जरूरी घरेलू टिप्स

पेशाब में जलन से परेशान है तो इसे हल्के में ना ले, तुरंत घरेलू उपचार करें

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. http://www.freeprachar.com के द्वारा पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस का प्रचार करें TOTALLY FREE

Leave a Reply