Home / स्वास्थ / पेट की परेशानियों और बवासीर में दिलाए आराम आंखों व् मुंह के छाले ‘दूब घास’ ऐसे कई फायदे
dubhi ghas
dubhi ghas

पेट की परेशानियों और बवासीर में दिलाए आराम आंखों व् मुंह के छाले ‘दूब घास’ ऐसे कई फायदे

दूब घास से कुल्ले करने से मुंह के छालों में लाभ होता है. इसी तरह उदर रोग में 5 मिली दूब का रस पिलाने से उल्टी में लाभ होता है. दूब का ताजा रस पुराने अतिसार और पतले अतिसारों में उपयोगी होता है.

लेटेस्ट जानकारी: पूजा के दौरान भगवान गणेश को अर्पित की जाने वाली कोमल दूब (घास) को आयुर्वेद में महाऔषधि माना जाता है. पौष्टिक आहार और औषधीय गुणों से भरपूर दुर्वा यानी दूब को हिन्दू संस्कारों एवं कर्मकांडों में उपयोग के साथ ही यौन रोगों, लीवर रोगों, कब्ज के उपचार में रामबाण माना जाता है. पतंजलि आयुर्वेद हरिद्वार के आचार्य बाल कृष्ण ने कहा कि दूब की जड़ें, तना, पत्तियां सभी को आयुर्वेद में अनेक असाध्य रोगों के उपचार के लिए सदियों से उपयोग में लाया जा रहा है.

आयुर्वेद के अनुसार चमत्कारी वनस्पति दूब का स्वाद कसैला-मीठा होता है जिसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर, पोटाशियम पर्याप्त मात्रा में विद्यमान होते हैं जोकि विभिन्न प्रकार के पित्त एवं कब्ज विकारों को दूर करने में राम बाण का काम करते हैं. यह पेट के रोगों, यौन रोगों, लीवर रोगों के लिए असरदार मानी जाती है.

पतंजलि आयुर्वेद हरिद्वार के आचार्य बालकृष्ण के अनुसार शिर-शूल में दूब तथा चूने को समान मात्रा में लेकर पानी में पीसें और इसे माथे पर लेप करने से लाभ होता है. इसी तरह दूब को पीसकर पलकों पर बांधने से नेत्र रोगों में लाभ होता है, नेत्र मल का आना भी बंद होता जाता है.

उन्होंने कहा कि अनार पुष्प स्वरस को दूब के रस के साथ या हरड़ के साथ मिश्रित कर 1-2 बूंद नाक में डालने से नकसीर में आराम मिलता है. दुर्वा पंचाग स्वरस का नस्य लेने से नकसीर में लाभ होता है. दूर्वा स्वरस को 1 से 2 बूंद नाक में डालने से नाक से खून आना बंद हो जाता है.

बालकृष्ण ने कहा कि दूर्वा क्वाथ से कुल्ले करने से मुंह के छालों में लाभ होता है. इसी तरह उदर रोग में 5 मिली दूब का रस पिलाने से उल्टी में लाभ होता है. दूब का ताजा रस पुराने अतिसार और पतले अतिसारों में उपयोगी होता है. दूब को सोंठ और सौंफ के साथ उबालकर पिलाने से आम दस्त में आराम मिलता है.

गुदा रोग में भी दूब लाभकारी है. दूर्वा पंचांग को पीसकर दही में मिलाकर लें और इसके पत्तों को पीसकर बवासीर पर लेप करने से लाभ होता है. इसी तरह घृत को दूब स्वरस में भली-भांति मिलाकर अर्श के अंकुरों पर लेप करें साथ ही शीतल चिकित्सा करें, रक्तस्त्राव शीघ्र रुक जाएगा. दूब को 30 मिली पानी में पीसें तथा इसमें मिश्री मिलाकर सुबह-शाम पीने से पथरी में लाभ होता है.

उन्होंने कहा कि दूब की मूल का काढ़ा बनाकर 10 से 30 मिली मात्रा में पीने से वस्तिशोथ, सूजाक और मूत्रदाह का शमन होता है. दूब को मिश्री के साथ घोंट छान कर पिलाने से पेशाब के साथ खून आना बंद हो जाता है. 1 से 2 ग्राम दूर्वा को दुध में पीस छानकर पिलाने से मूत्रदाह मिटती है.

रक्तप्रदर और गर्भपात में भी दूब उपयोगी है. दूब के रस में सफेद चंदन का चूर्ण और मिश्री मिलाकर पिलाने से रक्तप्रदर में लाभ होता है. प्रदर रोग में तथा रक्तस्त्राव एवं गर्भपात जैसी योनि व्याध्यियों में इसका प्रयोग करने से रक्त बहना रुक जाता है. गर्भाशय को शक्ति तथा पोषण मिलती है. श्वेत दूब वीर्य को कम करती है और काम शक्ति को घटाती है. sorce

आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि इसके अलावा भी दूब का उपयोग कई अन्य रोगों में इलाज के लिए किया जाता है। उन्होंने कहा कि वस्तुत: दुर्वा प्रत्येक भारतीय के निकट रहने वाली दिव्य वनौषधि है, जो किसी भी परिस्थिति में हरी-भरी रहने की सामथ्र्य रखती है और प्रत्येक रोगी को भी पुनर्जागृत बनाती है.

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

Check Also

helth is weilth

जानकारी खास है, खुद से करें ये 10 वादे, बीमारियां रहेंगी दूर

अपनी सेहत का खास ध्यान रखना तो हमारी अपनी ही जिम्मेदारी है। तो फिर क्यों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *