Home / स्वर्णिम सिद्धांत / बहुत ज्यादा देर सोचने में ना बिताये, उस पर काम करें

बहुत ज्यादा देर सोचने में ना बिताये, उस पर काम करें

कोई व्यक्ति जहां है वहां तक पहुंचने के लिए उसे वहीं से शुरु करना पड़ा था, जहां वक्त था हजार में से सिर्फ एक ही व्यक्ति या जानता है कि वर्तमान में कैसे जिया जाता है, हमारी समस्या यह है कि हम शायद ही कभी उन चीजों के बारे में सोचते हैं, जो हमारे पास है आमतौर पर हम उन्हीं चीजों के बारे में ज्यादा सोचते हैं, जो हमारे पास नहीं है।

 

हर असफल व्यक्ति ऐसे काम करना चाहता है, जिन्हें वह नहीं कर सकता। वह उन कामों के बारे में बहुत कम सोचता है जिन्हे वह कर सकता है, जो आप कर सकते हैं वह आप कर सकते हैं।

 

हमें ज्यादा शक्ति ज्यादा योग्यता या ज्यादा बड़े अवसर की जरूरत नहीं है, हमें तो बस उस सामर्थ का प्रयोग करने की जरूरत है जो हमारे पास पहले से मौजूद है, लोग हमेशा उस काम को नजरअंदाज करते हैं जिसे वे कर सकते हैं, इसके बजाय वे कोई ऐसा काम करने की कोशिश करते हैं जिसे भी नहीं कर सकते, नई बातें सीखने से उन व्यक्ति को फायदा नहीं होगा, जो पहले से ही मालूम बातों का उपयोग नहीं कर रहा है, सफलता का मतलब यह है कि हमारे पास जो है उसी से हम सर्वश्रेष्ठ काम करें।

 

नॉर्मन विंसेंट पील ने कहा है : हम सबने सुना है कि हमें अपनी गलतियों से सीखना चाहिए, लेकिन मैं सोचता हूं कि हमें अपनी सफलताओं से सीखना ज्यादा महत्वपूर्ण है, अगर आप अपनी गलतियों से ही सीखते रहेंगे तो आप सिर्फ गलतियों के बारे में ही सीख पाएंगे, कुछ लोग अपनी पूरी जिंदगी असफल होते रहते हैं, लेकिन उन्हें इस बात का जरा भी एहसास नहीं होता है।

 

कुछ नहीं करने के साथ सबसे बड़ी गड़बड़ी यह है कि आप यह कभी जान नहीं पाते कि आपकी प्रगति कब रुक गई है जब आप सुधार करना खत्म कर देते हैं तो आप भी खत्म हो जाते हैं आपको जो दिया गया है अगर आप उसका भरपूर उपयोग करेंगे तो आपको पहले से बहुत ज्यादा मिल जाएगा, कभी भी कोशिश करना ना छोड़े, जब अवसरों का तत्काल लाभ उठाया जाता है तो वे कई गुना बढ़ जाते है, लेकिन उन्हें नजरअंदाज करने पर वे मर जाते है, व्यक्ति जिस छत पर पहुंच जाता है वहां फर्श बन जाती है, जिस पर चलते हुए वह एक नई छत देख सकता है, हर निर्गम द्वार एक प्रवेश द्वार भी बन जाता है।

 

आप मौसम को तो नियंत्रित नहीं कर सकते लेकिन आप अपने चारों तरफ के नैतिक परिवेश को जरूर नियंत्रित कर सकते हैं, उन चीजों के बारे में चिंता क्यों करें जिन्हें आप नियंत्रित नहीं कर सकते है ?, इसके बजाय उन चीजों को नियंत्रित करने में व्यस्त हो जाए जो आप पर निर्भर करती है, एक सशक्त सफल व्यक्ति अपने माहौल का शिकार नहीं होता, अनुकूल स्थितियां बना लेता है।

 

वही व्यक्ति आगे निकलता है जो आवश्यकता से ज्यादा काम करता है और लगातार करता रहता है चाहे कितना ही कठिन क्यों न हो जाए, कुछ लोग आगे निकल जाते है, चाहे राह कितनी आसान हो जाए कुछ लोग पीछे ही बने रहते हैं, कहीं से भी शुरु कर दें। आप भविष्य में क्या करने वाले हैं सिर्फ इसके इरादे से ही आपकी किस्मत नहीं चमकेगी।

 

अपनी किस्मत चमकाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप ज्यादा अच्छे काम करें, जिंदगी में आपको जो भी मिला उसी पर अपने सपनों का महल बनाएं।

ये भी पढ़ें:

राजगुरू और चुगलखोर दरबारी

दीपावली का उत्सव – ज्ञान से भरपूर कहानी

उत्तम मिठाई – ज्ञानवर्धक कहानी

बगीचे की सिंचाई – हिंदी कहानी

पक्षियों की गिनती – हिंदी कहानी

बहुरूपिया राजगुरू

सच्चा कलाकार हिंदी कहानी

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. This classified site can be very helpful for your business, and your website will also increase Google ranking.
    http://www.freeprachar.com
    http://www.allindiaadvertisement.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *