Home / ज्ञानवर्धक कहानियाँ / ढाई अक्षर प्रेम के – ज्ञानवर्धक कहानी

ढाई अक्षर प्रेम के – ज्ञानवर्धक कहानी

नारद भक्तिसूक्त में प्रेम के स्वरुप का प्रतिपादन करते हुए कहा गया हैं –

प्रेम का स्वरुप अनिर्वन्च्नीय हैं। वह गूंगे के आस्वादन की भांति अकथ्य हैं।

प्रेम का फूल जब ह्रदय की धरा पर खिलता हैं तो उसकी सुवास जीवन को समस्त विकृत भावों से मुक्त करके उसमें सम्यक भावों का प्रसार कर देती है। घृणा हमारे जीवन का विष है। प्रेम का अमृत ह्रदय से घृणा के विष को धो डालता हैं।

 

राबिया नाम की एक प्रसिद्ध सन्यासिन हुई हैं। जैसे – जैसे उसकी आत्मा संन्यास – रस में पगती चली गयी , वैसे – वैसे उसका ह्रदय प्रेमपूर्ण होता चला गया। घृणा और क्रोध को उसने समूल विनष्ट कर डाला था। एक दिन वह अपना धर्मग्रन्थ पढ़ रही थी। उसमें एक पंक्ति लिखी थी – शैतान से घृणा करो। राबिया ने इस पंक्ति को काट दिया।

 

संयोग से एक फकीर उसकी झोपडी पर आया। उसने जब राबिया से लेकर धर्मग्रन्थ का पाठ प्रारंभ किया तो उसकी दृष्टि उस कटी हुई पंक्ति पर पड़ी। उसने क्रोधित होते हुए पूछा – राबिया ! धर्मग्रन्थ के वाक्य पर कलम फेरने का यह दुस्साहस किसने किया हैं ?

 

राबिया ने सहज शांत स्वर से कहा – इस पंक्ति को मैंने काटा हैं। फकीर ने खीझकर कहा – पैगम्बर के वचन पर कलम फेरकर तुमने उचित नहीं किया हैं। धर्मग्रन्थ में लिखा हैं – शैतान से घृणा करो , तो हमें इसका पालन करना चाहिए।

 

राबिया ने कहा – मैं भी इन पंक्तियों को वर्षों से पढ़ती आई हूँ। मुझे यह वाक्य गलत लगता हैं। शैतान की शैतानियत घृणा करने से नष्ट नहीं हो जाएगी। उसे नष्ट करने के लिए प्रेम की अमृतधार चाहिए। और जब से मेरे ह्रदय में प्रेम की अमृतधार घनीभूत होकर बरसी हैं तो घृणा मेरे लिए असंभव हो गयी हैं। फिर उसका पात्र शैतान ही क्यूँ न हो।

राबिया की बात सुनकर फकीर निरुत्तर हो गया।

और उसी प्रेम के सम्बन्ध में कबीर जी ने गाया था –

 पोथी पढ़ – पढ़ जग मुया , पंडित भया न कोय। ढाई आखर प्रेम के , पढ़े सो पण्डित होय।।

ये भी जरुर पढ़ें:

महामूर्ख कौन – ज्ञानवर्धक कहानी
मन की निर्मलता – ज्ञानवर्धक कहानी
छल विश्वास का परम शत्रु हैं
सौन्दर्यः असौंदर्य
क्षणमिह सज्जन – संगतिः
धैर्य है सिद्धिदाता
सच्चे दिल से धर्म की रक्षा करो वो तुम्हारा रक्षा करेगा

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. http://www.freeprachar.com के द्वारा पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस का प्रचार करें TOTALLY FREE

Leave a Reply