Home / स्वर्णिम सिद्धांत (page 2)

स्वर्णिम सिद्धांत

तरीका बदले लेकिन रुकें नहीं

जब आप बदलना खत्म कर देते हैं तो आप भी खत्म हो जाते हैं ज्यादातर लोग जिंदगी में इसलिए असफल होते हैं क्योंकि वह बदलना नहीं चाहते। लेकिन सच बात यह है कि सुधार और परिवर्तन का फल हमेशा मीठा होता है मानव जाति को तीन वर्गों में बांटा जा …

Read More »

बड़ा जोखिम ही बड़ी सफलता दिला सकता है

कोई भी ऐसा काम ना करें जिसमें आस्था की आवश्यकता न पड़ती हो, प्रगति की कुंजी यह है की प्रगति में हमेशा आस्था रहे, हम या तो आस्था के अनुसार जीते हैं, या फिर आस्था के बिना दिन गुजारते हैं।  हम या तो जोखिम उठाते हैं या फिर नीरज जीवन …

Read More »

सफल जिंदगी के लिए बहाने बनाने से बचें

निन्यानवे प्रतिशत मामलों में वही लोग असफल होते हैं, जिनमें बहाने बनाने की आदत होती है. आप तब तक कभी असफल नहीं होते जब तक आप किसी दूसरे को दोष ना देने लगे।  दूसरों को दोष देना छोड़ दे आप पाएंगे कि बहाने बनाने में निपुण हो जाने के बाद, …

Read More »

आप क्या देखते हैं, डिपेंड करता है कि, आप किस चीज की तलाश कर रहे हैं

बहुत से लोगों को ईश्वर का जवाब उसी कारण से नहीं मिलता है, जिस कारण से चोर को पुलिस वाला नहीं मिलता है, क्योंकि वह उससे दूर भाग रहा है, हम खुद को किस स्थिति में रखते हैं इसी से सारा फर्क पड़ता है, एक व्यक्ति को संसार एकाकी नीरस …

Read More »

हाथ पर हाथ रखकर समय का इंतजार ना करें

आपकी तक़दीर संजोग से नहीं बनती है, यह तो आपके फैसलों से तय होती है, कई लोग जिंदगी में सही निशाना तो साध लेते है, लेकिन ट्रिंगर नहीं दवा पाते है, जब आप यह तय कर लेते है की आप क्या चाहते है, तो समझ लीजिये आपने अपनी जिंदगी का …

Read More »

जो समय दूसरे बर्बाद करते है, आप उसका सही इस्तेमाल करें

ऐसे व्यक्ति न बनें, जो कहता तैयार ! निशाना साधो, निशाना साधो, निशाना साधो।  जैसे ही अवसर सामने आए, उसका दोहन कर डाले! चाहे अवसर कितना भी छोटा दिखे, उसका उपयोग अवश्य करें, चाहे आप पसंद करें या न करें, उस काम को कर डाले, जिसे आपको करना चाहिए, और …

Read More »

रचनात्मकता और कल्पनाशीलता से लगातार रूढ़ियों को कुंठित करें

कभी कभार रूककर सपने भी देखें, अपनी कल्पना को विचरण करने दे और इसे ताज़ी हवा लेने का मौका दें, अधिक रचनात्मक ढंग से सोचना कभी भी शुरू किया जा सकता है, अक्सर कल्पनाशीलता की कमी के कारण ही इंसान अपनी पूरी क्षमता का उपयोग नहीं कर पाता है। नए …

Read More »

असफलता का मतलब कुछ नया करने की कोशिश, यानि सफलता आपके बहुत करीब

जिंदगी में आप जो सबसे बड़ी गलती कर सकते है, वह यह है की आप गलती करने से घबराते रहें, असफल होने से ना डरें और ना ही असफलता को छिपाने की कोशिश में, अपनी ऊर्जा बर्बाद करें। अगर आप असफल नहीं हो रहे है, तो आप विकास नहीं कर …

Read More »

लोगों को दौलत की नहीं, लक्ष्य की जरूरत

daulat nahi laksh ki jarurat

दुनिया लक्ष्य वाले व्यक्ति को आगे निकलने की जगह देती है। ऐसे व्यक्ति की बातों और कामों से साफ जाहिर हो जाता है, की उसे अपना लक्ष्य मालूम है, आपको परस्थितियों पर विजय पाने, समस्याओं को सुलझाने और लक्ष्य हासिल करने के लिए बनाया गया है, अगर जितने के लिए …

Read More »

बहुत दबाव सहकर ही कोयला हीरा बनता है

हमें हर दिन प्रार्थना करना चाहिए, हे ईश्वर, मुझे खरपतवार जैसा संकल्प और लगन दो, बड़े से बड़ा पेड़ भी छोटे से बिज़ से पैदा हुआ है और ऐसा सिर्फ इसलिए हुआ है, क्यों वह बिज़ जमीन के भीतर लगातार विकास करता रहा, हमारी ये मुश्किलें हमारी ये तकलीफे बहुत …

Read More »

दूसरों की नक़ल करने से आप अपनी पहचान खो देते है

आप और मै समान पैदा हुए है, लेकिन फिर भी एक दूसरे से अलग है, क्या आप दुनिया में अपनी अलग जगह बनाना चाहते है, तो फिर अपने जैसे ही बनें, जो आप सचमुच है. आप इस समय जैसे है, उससे बेहतर बनने की दिशा में आपका पहला कदम यही …

Read More »

बोलते समय इंसान कुछ नहीं सीखता है – स्वर्णिम सिद्धांत

golden rule

दूसरों से अपनी बात मनवाने का एक बहुत ही अच्छा तरीका उनकी बातें सुनना है, गप्पे हांकने वाला आपसे दूसरे के बारें में बात करता है, बोर करने वाला आपसे अपने बारें में बात करता है, तथा बेहतरीन वक्ता आपसे आपके बारे में बात करता है, और इसके बाद आपका …

Read More »

स्वामी दयानंद सरस्वती एक महान पुरुष – लेटेस्ट जानकारी

swami dayanand saraswati ka janam gujarat ke bhootpurv moravi rajya ke takaara gaon me 12 February  1824 ko hua tha. mool nakshatra me janam lene ke kaaran unka naam moolshankar rakha gaya. unke pita ka naam ambashankar tha. wah bade medhavi aur honhaar the.   moolshankar bachapan se hee vilakshan …

Read More »