Home / ज्ञानवर्धक कहानियाँ (page 5)

ज्ञानवर्धक कहानियाँ

राजकीय कुएं की शादी – हिंदी कहानी

राजा कृष्णदेव के किसी बात पर अनबन हो जाने के उपरान्त तेनालीराम नाराज होकर कहीं चला गया। जब कई दिनों तक वापस नहीं लौटा तो राजा कृष्णदेव को चिंता हुई और उन्होंने उसे खोजने के लिए अपने गुप्तचर लगा दिए लेकिन तेनालीराम का कहीं पता नहीं चल सका। मजबूर होकर …

Read More »

बिल्ली और चूहे

cat and rat

तेनालीराम के घर में चूहों ने हुड़दंग मचा रखा था। और एक दिन चूहों ने उसकी पत्नी की एक सुन्दर साड़ी को काटकर उसमें एक छेद भी कर दिया। अब तो तेनालीराम और उसकी पत्नी को उन चूहों पर बहुत ही क्रोध आया। उन्होंने सोचा, इन चूहों को पकड़कर ख़त्म …

Read More »

लालची मंत्री

lalchi mantri

राजा कृष्णदेव की यह हार्दिक इच्छा थी कि वह अपने जीवनकाल में एक मंदिर का निर्माण कराएं। इसलिए उन्होंने अपने मंत्री को बुलवाया और उसमें उपयुक्त स्थान खोजने के लिए कहा। उस मंत्री ने अपने नगर के समीप ही जंगल में मंदिर निर्माण के लिए एक स्थान खोज लिया और …

Read More »

जनता का फैसला – ज्ञानवर्धक कहानी

राजा कृष्णदेव एक बार शिकार खेलने के लिए गए। तो जंगल में भटक गए उनके अंगरक्षक पीछे ही छूट गए थे। जब शाम हो गयी तो उन्होंने अपना घोड़ा एक पेड़ से बाँध दिया और वह रात नजदीक के एक गाँव में बिताने का निश्चय कर लिया। एक राहगीर का …

Read More »

अनोखी चित्रकारी – ज्ञान से भरपूर कहानी

राजा कृष्णदेव ने अपने लिए नया महल का निर्माण करवाया जिसकी दीवारों पर उन्होंने एक प्रसिद्द कलाकार द्वारा बड़े सुन्दर चित्र बनवाये थे। एक दिन राजा कृष्णदेव अपने प्रमुख दरबारियों को उन चित्रों को दिखला रहे थे। चित्र देखकर सभी दरबारी ने उनकी मुक्त कंठ से प्रशंसा की, पर चतुर …

Read More »

खतरनाक घोड़ा (ज्ञान से भरपूर कहानी)

विजयनगर चहुँ ओर से मजबूत राज्यों से घिरा हुआ था। राजा कृष्णदेव का विचार था कि उनकी घुड़सवारी फ़ौज भी मजबूत हो ताकि हमला होने पर शत्रुओं का सामना भली – भांति किया जा सके इसलिए उन्होंने अरबी नस्ल के घोड़े खरीदने का विचार किया। उनके प्रमुख मंत्रियों ने सलाह …

Read More »

बैंगनों की चोरी – ज्ञानवर्धक कहानी

राजा कृष्णदेव के बाग़ में अन्य साग – सब्जियों के साथ – साथ बढ़िया किस्म के बैंगन के कुछ पौधे लगे थे। एक बार राजा कृष्णदेव ने अपने प्रमुख दरबारियों को दावत दी। जिसमें उन बैंगनों की सब्जी परोसी गयी। तेनालीराम को बैंगन की सब्जी बड़ी स्वादिष्ट लगी। घर आकर …

Read More »

मनुष्य स्वभाव और कुत्ते की दुम – ज्ञान से भरपूर कहानी

राजा कृष्णदेव का दरबार जुड़ा था और दरबार में इस बात पर गरमागरम बहस हो रही थी कि मनुष्य के स्वभाव को बदला जा सकता हैं या नहीं। कुछ लोगों की राय थी कि मनुष्य का स्वभाव बदला जा सकता हैं लेकिन कुछ लोगों का विचार था कि ऐसा नहीं …

Read More »

बुढापे की मृत्यु – ज्ञानवर्धक कहानी

सुलतान आदिलशाह को यह डर हमेशा सताता रहता था कि राजा कृष्णदेव अपने राज्य के प्रदेश रायचूर और मकदल को वापस लेने के लिए उस पर कभी भी चढ़ाई कर सकते हैं। उसने उनकी वीरता के बारे में सुन रखा था। और यह भी कि राजा ने अपनी वीरता से …

Read More »