Home / ज्ञानवर्धक कहानियाँ (page 2)

ज्ञानवर्धक कहानियाँ

सीमा की रक्षा – ज्ञान से भरपूर कहानी

विजयनगर में पिछले कई दिनों से तोड़ – फोड़ की घटनाएं बढ़ती ही जा रही थी। कृष्णदेव राय इन घटनाओं से काफी चिंतित थे। उन्होंने शीघ्र ही परिषद् की बैठक बुलाई  और इन घटनाओं को रोकने के बारे में गहनता से विचार – विमर्श शुरू कर दिया। हमारे पड़ोसी राज्य …

Read More »

पाप का प्रायश्चित – हिंदी कहानी

तेनालीराम ने जिस कुत्ते की पूंछ सीधी की थी, वह कुत्ता बहुत कमजोर तो हो ही गया था, लिहाजा एक दिन चल बसा। उसके तुरंत बाद ही तेनालीराम को जोरों से बुखार ने धर दबोचा। पंडितजी तो ऐसे अवसरों की ताक में रहते थे उन्होंने तुरंत ही घोषणा कर दी …

Read More »

राजगुरू और चुगलखोर दरबारी

विजयनगर राज्य का एक दरबारी तेनालीराम से बहुत रूष्ट रहता था। बात ही बात में तेनालीराम ने उससे कुछ ऐसी बात कह दी थी जो उसे बहुत ही बुरी लगी थी इसलिए मन ही मन वह तेनालीराम से बदला लेने का कोई उचित अवसर देखने लगा। राजगुरू से तो तेनालीराम …

Read More »

दीपावली का उत्सव – ज्ञान से भरपूर कहानी

दीपावली का त्यौहार निकट ही था, तब राजा कृष्णदेव ने राजदरबार में उपस्थित सभी गणमान्य व्यक्तियों से कहा, क्यों न इस बार दीपावली का त्यौहार कुछ ढंग से मनाया जाए। और ऐसा आयोजन किया जाए कि जिसमें बच्चे – बड़े सभी की भागीदारी सुनिश्चित हो सके। आपका विचार तो अति …

Read More »

उत्तम मिठाई – ज्ञानवर्धक कहानी

एक दिन कड़ाके की ठण्ड में राजमहल में राजा कृष्णदेव के कक्ष में तेनालीराम और राजपुरोहित बैठे हुए थे। सुबह की गुनगुनाती धुप सेंकते हुए तीनों ही किसी गंभीर विषय पर वार्तालाप कर रहे थे। तभी एकाएक राजा कृष्णदेव ने कहा, जाड़े का मौसम सबसे बढ़िया हैं, इस मौसम में …

Read More »

बगीचे की सिंचाई – हिंदी कहानी

एक बार विजयनगर राज्य में भीषण अकाल पड़ गया। चारों और त्राहि – त्राहि मची थी। फसलें सूख गयी थी। हरियाली का कहीं नामो – निशान नहीं था। वर्षा थी कि होने का नाम नहीं ले रही थी। विजयनगर राज्य में तेनालीराम का घर तुंगभद्रा नदी के किनारों पर था। …

Read More »

पक्षियों की गिनती – हिंदी कहानी

कभी – कभी राजा कृष्णदेव तेनालीराम को भ्रमित करने के लिए बड़े अजीबो – गरीब प्रश्न पूछ लिया करते थे। एक दिन उन्होंने तेनालीराम से पूछा, विदूषकजी, आप बता सकते हैं कि हमारे राज्य में कुल मिलाकर कितने पक्षी होंगे ? बता तो सकता हूँ, महाराज,लेकिन आपके दरबार में मुझसे …

Read More »

बहुरूपिया राजगुरू

विजयनगर राज्य में तेनालीराम की लोकप्रियता से राजगुरू बहुत उद्विग्न थे। हर रोज उन्हें तेनालीराम के कारण शर्मसार होना पड़ता था और नित्यप्रति ही राज दरबार में उनकी हंसी उड़ाई जाती थी। वैसे भी यह दुष्ट कई बार महाराज के मृत्युदंड से भी बच निकला हैं। इससे छुटकारा पाने का …

Read More »

सच्चा कलाकार हिंदी कहानी

विजयनगर में राजा कृष्णदेव का दरबार लगा हुआ था। मौसम काफी खुशगवार था। वर्षा रानी की रिमझिम फुहारें पड़ रही थी। यह वातावरण महाराज को बड़ा ही प्रिय लग रहा था। तभी राजा कृष्णदेव ने अपनी इच्छा प्रकट करते हुए कहा, मेरी हार्दिक इच्छा हैं कि इस बार भी हम …

Read More »