Home / ज्ञानवर्धक कहानियाँ / बुढापे की मृत्यु – ज्ञानवर्धक कहानी

बुढापे की मृत्यु – ज्ञानवर्धक कहानी

सुलतान आदिलशाह को यह डर हमेशा सताता रहता था कि राजा कृष्णदेव अपने राज्य के प्रदेश रायचूर और मकदल को वापस लेने के लिए उस पर कभी भी चढ़ाई कर सकते हैं।

उसने उनकी वीरता के बारे में सुन रखा था। और यह भी कि राजा ने अपनी वीरता से कोडीवुड, कोंडपल्ली, श्रीरंगपत्तिनम, उदयगिरी, उमत्तूर और विश्वमुद्रम को जीत लिया हैं। आदिलशाह ने सोचा कि इन दो नगरों को बचाने का एक ही उपाय हैं कि राजा कृष्णदेव की सुनियोजित तरीके से ह्त्या करवा दी जाए।

उसने लालच देकर तेनालीराम के पुराने सहपाठी और उसके मामा के संबंधी कनकराजू को इस काम के लिए अपनी ओर मिला लिया।

ये भी पढ़ें: बूढ़ा कारपेंटर का आखिरी काम – हिंदी स्टोरी

जब कनकराजू अपने पुराने सहपाठी तेनालीराम के घर पहुंचा, तो तेनालीराम ने उसका खुले दिल से स्वागत किया। उसकी खूब आवभगत की और अपने घर में उसे बाइज्जत ठहराया।

एक दिन किसी कार्यवश तेनालीराम बाहर गया हुआ था, तो कनकराजू ने राजा कृष्णदेव को तेनालीराम की तरफ से सन्देश भेजा, आप इसी समय मेरे घर आ जाएं तो आपको ऐसी अनोखी बात दिखाउंगा जो आपने जीवन में नहीं देखी होगी।

यह सन्देश पाकर राजा कृष्णदेव बिना किसी हथियार अपने अंगरक्षकों के सरदार के साथ तेनालीराम के घर पहुँच गया। तभी अचानक कनकराजू ने धारदार हथियार से उन पर घात लगाकर वार कर दिया। इससे पहले कि वह हथियार राजा कृष्णदेव को कोई क्षति पहुंचाती राजा कृष्णदेव ने कनकराजू की वही कलाई पकड़ ली। उसी समय राजा के अंगरक्षकों का सरदार जोकि बाहर खड़ा था, ने कनकराजू को पकड़ लिया और तलवार के एक ही वार से उसे ढेर कर दिया।

ये भी पढ़ें: अभिमान अक्ल को खा जाता है – एक प्रेरणादायक कहानी

क़ानून के मुताबिक़ राजा को मारने की कोशिश करने वाले को जो व्यक्ति शरण देता था, उसे मृत्युदंड दिया जाता था। राजा ने तेनालीराम को मृत्युदंड की सजा सुना दी। लेकिन तेनाली ने राजा से दया की अपील की। तो राजा ने कहा, मैं राज्य के नियम के विरुद्ध जाकर तुम्हें क्षमा नहीं कर सकता। तुमने उस नीच व्यक्ति को अपने यहाँ पनाह दी फिर तुम मुझसे कैसे क्षमा की आशा कर सकते हो ? हाँ इतना तो हो सकता हैं कि तुम्हें यह फैसला करने की स्वतन्त्रता दी जाती हैं कि तुम्हें कैसी मृत्यु चाहिए।

तभी तेनाली तपाक से बोला, महाराज ! मुझे बुढापे की मृत्यु चाहिए।

सभी दरबारी उसकी इस समझदारी के कायल हो गए। तब राजा कृष्णदेव हंसकर बोले, तुम बहुत ही चतुर हो तेनाली। आखिर इस बार भी बच ही निकले।

ये भी पढ़ें: भगवन बुद्ध: जीवन में शांति का एहसास कब होता है

हर किसी की अपनी अलग सोच – हिंदी कहानी

What is the Secret of Happiness – महा ऋषि का अनोखा जवाब

क्या आप जानते है: फीमेल्स पायल क्यों पहनती है

क्या आप जानते है: जहाँ जूते चप्पल पहनकर जाना पूरी तरह निषेध माना जाता है

गलती से भी न लगाएं इस तरह की तस्वीरें, घर में आती है गरीबी के साथ दुर्भाग्य

क्या आप जानते है: पूजा के बाद क्यों की जाती है आरती ?

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

One comment

  1. This classified site can be very helpful for your business, and your website will also increase Google ranking.
    http://www.freeprachar.com
    http://www.allindiaadvertisement.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *