Home / ज्ञानवर्धक कहानियाँ / बुढापे की मृत्यु – ज्ञानवर्धक कहानी

बुढापे की मृत्यु – ज्ञानवर्धक कहानी

सुलतान आदिलशाह को यह डर हमेशा सताता रहता था कि राजा कृष्णदेव अपने राज्य के प्रदेश रायचूर और मकदल को वापस लेने के लिए उस पर कभी भी चढ़ाई कर सकते हैं।

उसने उनकी वीरता के बारे में सुन रखा था। और यह भी कि राजा ने अपनी वीरता से कोडीवुड, कोंडपल्ली, श्रीरंगपत्तिनम, उदयगिरी, उमत्तूर और विश्वमुद्रम को जीत लिया हैं। आदिलशाह ने सोचा कि इन दो नगरों को बचाने का एक ही उपाय हैं कि राजा कृष्णदेव की सुनियोजित तरीके से ह्त्या करवा दी जाए।

उसने लालच देकर तेनालीराम के पुराने सहपाठी और उसके मामा के संबंधी कनकराजू को इस काम के लिए अपनी ओर मिला लिया।

जब कनकराजू अपने पुराने सहपाठी तेनालीराम के घर पहुंचा, तो तेनालीराम ने उसका खुले दिल से स्वागत किया। उसकी खूब आवभगत की और अपने घर में उसे बाइज्जत ठहराया।

एक दिन किसी कार्यवश तेनालीराम बाहर गया हुआ था, तो कनकराजू ने राजा कृष्णदेव को तेनालीराम की तरफ से सन्देश भेजा, आप इसी समय मेरे घर आ जाएं तो आपको ऐसी अनोखी बात दिखाउंगा जो आपने जीवन में नहीं देखी होगी।

यह सन्देश पाकर राजा कृष्णदेव बिना किसी हथियार अपने अंगरक्षकों के सरदार के साथ तेनालीराम के घर पहुँच गया। तभी अचानक कनकराजू ने धारदार हथियार से उन पर घात लगाकर वार कर दिया। इससे पहले कि वह हथियार राजा कृष्णदेव को कोई क्षति पहुंचाती राजा कृष्णदेव ने कनकराजू की वही कलाई पकड़ ली। उसी समय राजा के अंगरक्षकों का सरदार जोकि बाहर खड़ा था, ने कनकराजू को पकड़ लिया और तलवार के एक ही वार से उसे ढेर कर दिया।

क़ानून के मुताबिक़ राजा को मारने की कोशिश करने वाले को जो व्यक्ति शरण देता था, उसे मृत्युदंड दिया जाता था। राजा ने तेनालीराम को मृत्युदंड की सजा सुना दी। लेकिन तेनाली ने राजा से दया की अपील की। तो राजा ने कहा, मैं राज्य के नियम के विरुद्ध जाकर तुम्हें क्षमा नहीं कर सकता। तुमने उस नीच व्यक्ति को अपने यहाँ पनाह दी फिर तुम मुझसे कैसे क्षमा की आशा कर सकते हो ? हाँ इतना तो हो सकता हैं कि तुम्हें यह फैसला करने की स्वतन्त्रता दी जाती हैं कि तुम्हें कैसी मृत्यु चाहिए।

तभी तेनाली तपाक से बोला, महाराज ! मुझे बुढापे की मृत्यु चाहिए।

सभी दरबारी उसकी इस समझदारी के कायल हो गए। तब राजा कृष्णदेव हंसकर बोले, तुम बहुत ही चतुर हो तेनाली। आखिर इस बार भी बच ही निकले।

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

Check Also

किसानों का आथित्य Hindi kahani

राजा कृष्णदेव जब भी कहीं जाते, तेनालीराम को अवश्य अपने साथ ले जाते। बिना तेनाली …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *