Home / स्वर्णिम सिद्धांत / आप किसी चीज को खोजना चाहते है तो उसे जानना जरुरी है

आप किसी चीज को खोजना चाहते है तो उसे जानना जरुरी है

अवसर आपके चारों तरफ है। महत्वपूर्ण बात तो यह है कि आपका ध्यान कहां केंद्रित है। खुद से हर दिन यह सवाल करें, मेरा ध्यान कहां केंद्रित होना चाहिए? आप जहां अपना ध्यान केंद्रित करते हैं, वहीं पर अपने आप शक्ति और प्रगति उत्पन्न हो जाती है।

 

प्रगति के लक्षण यह एकल मानसिकता वाली होती है। यह विचलित हुए बिना किसी लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में काम करती है। इसमें असीमित प्रबल इच्छा होती है इसमें एकाग्रचित गहनता और तक़दीर के निश्चित एहसास की जरुरत होती है। और सबसे बढ़कर इसमें असीमित भविष्य दृष्टि और उत्सुकता के प्रति समर्पण होता है।

 

एकाग्रता व कुंजी है, जो सफलता का द्वार खोल देती है। सफलता का पहला नियम एकाग्रता है। यानी सभी ऊर्जाओं को एक बिंदु पर केंद्रित करना और फिर इधर उधर देखे बिना सीधे उस बिंदु तक जाना इतिहास के सबसे सफल व्यक्ति एकाग्रचित थे। जो एक ही जगह पर तब तक प्रहार करते रहे, जब तक कि भी अपने लक्ष्य तक नहीं पहुंच गएँ. यह सफल व्यक्ति एक विशिष्ट विचार सतत लक्ष्य और गहन उद्देश्य वाले व्यक्ति रहे हैं।

 

कुछ लोगों के सपनों और उनकी उपलब्धियां में बहुत फर्क होता है। यह फर्क एक कारण होता है क्योंकि बे अपनी पूरी योग्यता को एक ही लक्ष्य पर केंद्रित करके अपनी उर्जा को एकाग्र और समर्पित नहीं करते। तत्काल बर्बाद होने के दो रास्ते हैं। किसी की सलाह न लेना और सब की सलाह लेना। सर्वश्रेष्ठ काम को आप तभी कर सकते हैं, जब आप अच्छे काम को करने से इंकार कर दे।

 

ए पि गेटे के अनुसार सफलता की तीन रणनीतियां है, एक बड़ा कूड़ादान – आपको यह मालूम होना चाहिए कि कौन सा काम नहीं करना है। यह मालूम होना चाहिए कि किसे सुरक्षित रखना है, यह मालूम होना चाहिए कि कब ना कहना है, क्योंकि ना कहने से ही हमें हां कहने की शक्ति मिलती है।

 

हमें सफलता इसलिए नहीं मिलती है, क्योंकि हम अपनी इच्छाओं को नजर अंदाज कर देते हैं, बल्कि हमें सफलता इसलिए मिलती है क्योंकि हम अपनी इच्छाओं को सही दिशा में ढाल लेते हैं जब आपके पास निश्चित लक्ष्य होंगे, तो जिंदगी में आपकी शक्ति बढ़ जाएगी जब आप किसी लक्ष्य के लिए अपना जीवन समर्पित कर देते हैं, तो आपके शव्द, आवाज, पहनावा, चलने का अंदाज, सब कुछ बदल जाता है और बेहतर बन जाता है।

 

भविष्य के बारे में अनिश्चित और वर्तमान के बारे में अस्पष्ट ना रहे, सही मार्ग पर चलें, लेकिन घिसे-पिटे रास्ते पर चलने से बचें। किसी एक काम में विशेषज्ञता हासिल कर ले, ईश्वर भी सबको खुश नहीं कर सकता है, इसलिए आप या कोशिश हरगिज़ ना करें, आप किसी चीज को तब तक नहीं खोज सकते, जब तक कि आप उसे जानते ना हो, अगर आप अगर आप दौड़ पूरी करना चाहते हैं तो मैदान ना छोड़ें और अपने चुने हुए रास्ते पर चलते रहें।

 

मुझे इस बात पर हैरानी होती है कि ज्यादातर लोग किसी लक्ष्य उद्देश्य के बिना ही जिंदगी गुजार देते हैं, वे बहुत आसानी से अपनी जिंदगी की दिशा की बागडोर दूसरे के हाथ में थमा देते हैं, खुद को जान लें, किसी विशिष्ट और निश्चित काम में संतुष्टि खोजें, अपनी वास्तविक क्षमता तथा सच्चे स्वरूप के अनुरूप काम करने की जोखिम लें, जो काम आप की वास्तविक क्षमता का सच्चा स्वरूप के अनुरूप नहीं है, उसके बारे में विनंरता से क्षमा मांगना सीखें।

About admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

Check Also

किसी की आलोचना करने में समय व्यर्थ न गवाएं

सभी प्रगतिशील लोगों में एक खास बात होती है आलोचना उनकी तरफ खिची चली आती …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *