टॉम मोनाघन की संघर्ष भरी दास्तान

10,169 total views, 0 views today

टॉम मोनाघन ने पिज़्ज़ा की होम डिलीवरी का युग शुरू किया, जिससे उन्हें आशातीत सफलता मिली। 1980 के दशक में जब एक दिन पिज़्ज़ा हट वालों की आँख खुली, तो उन्होंने देखा कि वे टॉम मोनाघन नाम के अशिक्षित व कम पूंजी वाले व्यवसायी से हार रहे हैं।

आगे ये भी पढ़ें: दूसरों का भला करने से अपना भला खुद हो जायेगा

 

पिज़्ज़ा हट के एग्जीक्यूटिव ने सोचा कि पिज़्ज़ा की होम डिलीवरी सिर्फ कुछ समय तक ही चलेगी और उन्होंने बाजार के इस हिस्से की तरफ ध्यान नहीं दिया, क्योंकि इसे शुरू करना थोड़ा मुश्किल था। पिज़्ज़ा हट वाले चाहते तो किसी भी प्रतियोगी को आसानी से पछाड़ सकते थे, क्योंकि उनके पास 3000 से ज्यादा रेस्तरां थे।

 

बहरहाल, उनमें दूरदृष्टि नहीं थी। वे यह नहीं देख पाए कि टॉम मोनाघन जिस दिशा में जा रहे थे, उस दिशा में वे आगे चलकर उनके लिए बहुत बड़ा ख़तरा बन जायेंगे। यही वजह हैं कि उन्होंने अनजाने में ही मोनाघन को बाजार में मजबूती से पैर जमाने का मौक़ा दे दिया।

 

मोनाघन ने अमेरिकी समाज की जीवनशैली में हुए परिवर्तन को भांप लिया था। उन्होंने देख लिया था कि पारंपरिक पिज़्ज़ा ग्राहक की खरीदने और खाने की आदतों में परिवर्तन हो रहा था। मोनाघन ने एक ऐसी सुविधा दी, जो उन परिवारों को बहुत अच्छी लगी, जहां पति – पत्नी दोनों नौकरी करते थे।

आगे ये भी पढ़ें: कभी भी खुद की तुलना दूसरे से ना करें

 

मोनाघन की बुध्ही और कड़ी मेहनत  के बदौलत उनकी कंपनी डोमिनोज पिज़्ज़ा अमेरिका में पिज़्ज़ा की सबसे बड़ी निर्माता बन गयी। पिज़्ज़ा हट वाले इस परिवर्तन को तब तक नहीं भांप पाए, जब तक कि वे पिज़्ज़ा की घरपहुँच सेवा में मोनाघन से बहुत पीछे नहीं रह गए।

 

टॉम मोनाघन ने 30 मिनट की गारंटीड पिज़्ज़ा डिलीवरी शुरू की। मोनाघन की गारंटी थी कि उनका पिज़्ज़ा 30 मिनट में ग्राहकों तक पहुँच जायेगा, वरना विशेष डिस्काउंट दिया जायेगा। इस गारंटी की वजह से उनकी बिक्री आसमान छूने लगी।

 

बहरहाल 30 मिनट की डेडलाइन पूरी करने के चक्कर में डोमिनोज के डिलीवरी ट्रक दुर्घटनाएं करने लगी, जिस वजह से बाद में यह गारंटी बंद कर दी गयी। लेकिन तब तक उपभोक्ताओं को यह यकीन हो चुका था कि डोमिनोज की घरपहुँच सेवा विश्वसनीय थी और लाजवाब भी। टॉम मोनाघन ने डोमिनोज में पिज़्ज़ा के अलावा कुछ नहीं रखा।

आगे ये भी पढ़ें: आसान रास्ते से आप कभी कामयाब नहीं हो सकते

 

उन्होंने सैंडविच या खाने – पीने का कोई और सामान नहीं रखा। उन्हें डर था कि इससे उनके स्टोर मेनेजरो का ध्यान भटक जायेगा और वे सबसे कम समय में सबसे अच्छा पिज़्ज़ा नहीं पहुंचा पाएंगे। पिज़्ज़ा की होम डिलीवरी ही उनका एकमात्र ध्येय और लक्ष्य था। इसी एकनिष्ठा की वजह से वे इतने अधिक सफल हुए।

admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.