अनीता रोडिक के लाइफ की सफल कहानी

11,039 total views, 1 views today

अनीता रोडिक ने 1976 में इंग्लैंड के ब्राइटन में अपना पहला स्टोर थे बॉडी शॉप खोला। इस स्टोर को खोलते समय रोडिक के मन में एक ही बात थी : सौन्दर्य प्रसाधन के क्षेत्र में ग्राहकों की समस्याओं को खत्म करना।

रोडिक को सौन्दर्य प्रसाधनों के क्षेत्र में तीन मूल समस्याएं दिख रही थी :

  • कॉस्मेटिक उद्योग ढेरो विज्ञापन देकर और मार्केटिंग के नए पैंतरों से ग्राहकों को रिझाने की कोशिश करता था। समस्या यह थी कि इसका सारा खर्च आखिरकार ग्राहक को ही झेलना पड़ता था। ग्राहक को न सिर्फ विज्ञापनों की बल्कि आकर्षक पैकिंग की कीमत भी चुकानी पड़ती थी।
  • सौंदर्य प्रसाधन बड़े पैक में ही मिलते थे। जो ग्राहक छोटे पैक खरीदना चाहते थे, उन्हें या तो वे नहीं मिलते थे या फिर बहुत महंगे मिलते थे।
  • अधिकाँश सौन्दर्य प्रसाधनों में रसायनों का प्रयोग होता था, जो अंततः त्वचा को नुकसान पहुंचाते थे।
आगे ये भी पढ़ें: दूसरों का भला करने से अपना भला खुद हो जायेगा

 

अनीता रोडिक ने नया काम यह किया कि उन्होंने कॉस्मेटिक उद्योग की की इन सभी समस्याओं को दूर कर दिया। उन्होनें यह फैसला किया कि वे  अपने सौन्दर्य प्रसाधन प्राकृतिक पदार्थों से ही बनाएंगी और रसायनों का प्रयोग नहीं करेंगी।

 

ग्राहकों की सुविधा के लिए उन्होनें पांच अलग – अलग आकार की प्लास्टिक की सस्ती डिब्बियों में सौन्दर्य प्रसाधन बेचने का फैसला किया। उनका सबसे बड़ा फैसला यह था कि वे विज्ञापन में एक भी पैसा खर्च नहीं करेंगी, ताकि ग्राहकों को सौन्दर्य  प्रसाधन बहुत सस्ते दामों पर मिल जाएँ।

 

महानतम व्यावसायिक सफलताओं में से एक यह खोजना हैं कि किस चीज की जरूरत हैं। रोडिक ने सही समय पर सही रास्ता पकड़ा। उस वक़्त जनता को प्राकृतिक सौन्दर्य प्रसाधनों की जरूरत थी और अगर अच्छे प्रसाधन सस्ते में मिल रहे हो, तो और क्या चाहिए। द बॉडी शॉप इतनी लोकप्रिय हुई कि जल्द ही अनिता रोडिक को बहुत से फ्रेंचाइजी खोलने पड़े।

आगे ये भी पढ़ें: कभी भी खुद की तुलना दूसरे से ना करें

 

1998 में बॉडी शॉप ने अमेरिका में प्रवेश किया। 2006 में बॉडी शॉप ने भारत में कदम रखा और आज यहाँ इसके 80 स्टोर्स हैं। अनीता रोडिक का जन्म 23 अक्टूबर 1942 को ससेक्स, इंग्लैंड में हुआ।

 

कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने कई नौकरियाँ की। पेरिस में उन्होंने इंटरनेशनल हेरोल्ड ट्रिब्यून के लिए काम किया। इंग्लैंड में उन्होंने टीचर की नौकरी की। फिर वे यूनाइटेड नेशन में नौकरी करने के लिए जिनेवा गयी।

 

इसके बाद उन्होंने दुनिया की सैर करने का फैसला किया और वे अफ्रीका, फार ईस्ट तथा ऑस्ट्रेलिया की यात्रा पर गयी , जहां उन्होंने प्राकृतिक सौन्दर्य प्रसाधनों के गुर सीखे। घर लौटने के बाद अनीता रोडिक ने विवाह कर लिया। जब एक दिन उनके पति गॉर्डोन ने कहा कि वे घोड़े पर बैठकर दक्षिण अमेरिका से न्यू यॉर्क तक की यात्रा करना चाहते हैं तो रोडिक ने किसी ऐसे काम के बारे में सोचा, जिससे पति की अनुपस्थिति में घर – खर्च चल सके।

आगे ये भी पढ़ें: आसान रास्ते से आप कभी कामयाब नहीं हो सकते

 

काफी सोच – विचार के बाद उनके मन में एक नए किस्म का कॉस्मेटिक बिज़नेस शुरू करने का विचार आया – जिसमें सिर्फ प्राकृतिक सामग्री का इस्तेमाल किया जाए।

 

27 मार्च 1976 को रोडिक ने ब्राइटन में अपनी दूकान खोल ली। मजे की बात यह थी कि उनकी दूकान अंत्येष्टि का सामान बेचने वाली दुकान के पास थी। कोई भी महत्वाकांक्षी व्यवसायी ऐसी जगह दूकान खोलने से घबराता, लेकिन अनीता रोडिक तो एक प्रयोग कर रही थी, इसलिए उन्होंने बेहिचक दुकान खोल ली।

 

शुरू में उन्होंने छोटी – छोटी शीशीयों में सौन्दर्य प्रसाधन बेचे, ताकि कम कीमत पर के कारण ग्राहक उन्हें आसानी से आजमा सके। सामान की पैकिंग पर कोइ खर्च नहीं होता था, क्योंकि रोडिक रात को सामान तैयार करके उन पर लेबल खुद लगाती थी।

आगे ये भी पढ़ें: अपनी सफलता में खुद रुकावट न बने

 

समय की कमी के कारण अनीता रोडिक प्रसाधनों में सेंट नहीं मिला पाती थी, इसलिए उन्होंने कई तरह के सेंट शीशीयों में भरकर रख दिए और ग्राहक अपनी इच्छानुसार अपना मनचाहा सेंट अपने प्रसाधनों में मिला लेते थे।

 

इस तरह के प्रयोगों की बदौलत जब ब्राइटन की दुकान चल निकली, तो रोडिक ने जल्द ही पास के शहर में एक और दुकान खोल ली। 1977 में जब रोडिक के पति लौटे, तब तक  बॉडी शॉप काफी लोकप्रिय हो चुकी थी। पहले तो रोडिक की सहेलियों और परिवार वालों ने ही कुछ दुकानें खोली, लेकिन जल्द ही पूरे देश से शाखाएं खोलने के आग्रह आने लगे।

आगे ये भी पढ़ें: पथरी से बचने के लिए ये जानकारी जरूरी

 

इस मांग को पूरा करने के लिए रोडिक ने ने फ्रैंचाइजी देने का फैसला किया। फ्रैंचाइजी का गणित बिलकुल सीधा था – फ्रैंचाइजी खोलने की इच्छुक महिलाएं व्यवसाय में पैसे लगाती थी और रोडिक से सौन्दर्य प्रसाधन खरीदती थी तथा बदले में रोडिक उन्हें रोडिक शॉप के नाम का इस्तेमाल करने देती थी।

 

अप्रैल 1984 में उनकी कंपनी शेयर बाजार में सूचीबद्ध हुई। पहले ही दिन बॉडी शॉप के शेयर की कीमत में भारी उछाल आ गया। रोडिक और उनके पति एक ही दिन में मिलियनेयर बन गए। आज बॉडी शॉप का नेटवर्क दुनिया भर में फैल चुका हैं और आज 61 देशों में बॉडी शॉप का 2400 रिटेल आउटलेट हैं, जहां 1200 प्रोडक्ट्स से अधिक बिकते हैं।

 

रोडिक ने बड़ी – बड़ी कॉस्मेटिक कंपनियों से मुकाबला किया और प्राकृतिक सौन्दर्य प्रसाधनों के दम पर उन्हें धुल चटा दी। अनीता रोडिक ने कुटीर उद्योग से शुरू करके एक विशाल विश्वव्यापी कंपनी बना डाली और यह इसलिए संभव हुआ, क्योंकि उन्होंने एक अलग दिशा चुनी।

admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.