रूथ हैंडलर का सफल जीवन सफर

32 total views, 1 views today

रूथ हैंडलर की दौलत और शोहरत का कारण यह हैं कि उन्होंने बार्बी डॉल इजाद की थी। सन 2000 तक एक अरब बार्बी डॉल्स बिक चुकी थी और इस बिजनेस से हर साल 2 अरब डॉलर डॉलर की आमदनी हो रही थी। बार्बी डॉल अचानक नहीं बन गयी थी। इसे बनाने और बेचने के लिए रूथ हैंडलर को काफी पापड बेलने पड़े थे। रूथ हैंडलर के पति इलियट ने अपने दोस्त हेरोल्ड मेटसन के साथ मिलकर मैटल नाम की खिलौना कंपनी शुरू की और खिलौना बंदूकें जैसे सामान बेचने लगे। एक दिन रूथ ने अपनी बेटी बारबरा को कागज़ की गुड़ियों से खेलते देखा।

आगे ये भी पढ़ें: डेबिट वैलेस ने संघर्ष से जीवन को सफल बनाया

 

अचानक रूथ के मन में एक विचार आया कि क्यों न एक ऐसी गुडिया बनायी जाए जो युवती जैसी दिखती हो, जिसका सीना उभरा हुआ हो और फिगर आदर्श हो। हैंडलर जानती थी कि लड़कियों को यह कल्पना करना अच्छा लगता हैं कि वे बड़ी होकर कैसा दिखना चाहती हैं। उन्होंने तत्काल एक ऐसी गुडिया बनाने का फैसला किया जो छोटी बच्ची जैसी नहीं बल्कि वयस्क युवती जैसी दिखती हो। जब हैंडलर इस गुडिया को लेकर मेटल कारपोरेशन यानी अपने पति के कंपनी में गयी तो संचालक ने उसके प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया। उन्हें दो प्रमुख आपत्तियां थी। पहली तो यह कि बहुत महँगा प्रयोग हैं और दूसरी यह कि इस तरह की गुड़िया कभी लोकप्रिय नहीं होगी।

 

संचालक मंडल के इंकार के बावजूद रूथ हैंडलर ने हार नहीं मानी। उन्हें अपने विचार पर विश्वास था, अपने सपने पर यकीन था। कुछ समय बाद जब रूथ यूरोप गयी, तो वे वहाँ से लिली नामक गुड़िया लेकर आयी, जिसे जर्मनी की कॉमिक स्ट्रिप की वैम्प पात्र के अनुरूप बनाया गया था। हैंडलर ने लिली से मिलती जुलती गुड़िया बनाई। यहाँ तक कि उन्होंने एक डिज़ाइनर से उसके कपडे भी बनवाये। परिणाम था बार्बी डॉल, जिसका नाम उन्होंने अपनी बेटी बारबरा के घर के नाम पर रखा था।

आगे ये भी पढ़ें: सैम वाल्टन के संघर्षपूर्ण जीवन सफर

 

आखिर रूथ हैंडलर के संकल्प के आगे मैटल कारपोरेशन ने घुटने टेक दिए और उनकी गुड़िया को बाजार में उतारने का फैसला कर लिया। बार्बी डॉल 1959 में पहली बार न्यू यॉर्क के खेल मेले में नज़र आयी। लडकियां इसे देखकर इतनी बौरा गयी कि हंगामा मच गया। 3 डॉलर की बार्बी ने बिक्री का एक नया कीर्तिमान बना दिया, जब 3,51,000 बार्बी डॉल्स हाथोहाथ बिक गयी। तब से बार्बी की लोकप्रियता आज तक कम नहीं हुई हैं। एक अरब से ज्यादा बार्बी डॉल्स बिक चुकी हैं और इसे खिलौना उद्योग के इतिहास में सबसे सफल प्रोडक्ट माना जाता हैं।

आगे ये भी पढ़ें: टेड टर्नर जिंदगी की सफल कहानी

admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.