Cyrus McCormick ने इस प्रकार अर्जित किया जीवन की बड़ी कामयाबी

11,064 total views, 1 views today

अगर आपको लगता हैं कि सामान्य आविष्कार करके कोई अमीर नहीं बन सकता, तो शायद आपने Cyrus McCormick के बारे में नहीं सुना होगा। Cyrus McCormick फसल काटने की मशीन जैसे सामान्य उपकरण के आविष्कार से अमीर बने। उन्नीसवीं सदी में उनकी कटाई की मशीन ने कृषि क्षेत्र में क्रान्ति कर दी।

आगे ये भी पढ़ें: फ्रैंक वूलवर्थ एक सफल उद्योगपति

 

मैककॉरमिक से पहले भी कई लोग फसल काटने की मशीन बनाने की कोशिश कर चुके थे, लेकिन मैककॉरमिक ने उसे अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर बेचने तथा लोकप्री बनाने का सफल सिस्टम बनाया।

 

1840 के दशक में साइरस अपनी मशीन को लेकर पूरे अमेरिका में घूमने लगे, ताकि अपनी आँखों से फसल कटती देखने के बाद किसानों को इसके उपयोगिता पर भरोसा हो जाए। उन्होंने ऐसी कई विक्रय तकनीकें शुरू की, जिनका इस्तेमाल बाद में बहुत से व्यवसायियों ने किया : उन्होंने मुफ्त ट्रायल दिए, पसंद न आने पर पैसे वापस करने की गारंटी दी, किश्तों में मशीन बेचने की मुहिम चलाई और अपनी मशीनों की कीमत निश्चित रखी।

आगे ये भी पढ़ें: मैडम सी. जे. वाकर के सफल जीवन

 

उन्होंने फ्रैंचाइजी देने का लाइसेंसिंग सिस्टम भी शुरू किया। उस वक़्त मशीनों की ढुलाई की समस्या तथा लागत को देखते हुए मैककॉरमिक ने देश के कई निर्माताओं को अपनी मशीन बनाने का लाइसेंस दे दिया। निर्माता एक मशीन बेचने पर मैककॉरमिक को 20 डॉलर देते थे।

 

यह मशीन इतनी लोकप्रिय हुई कि 1860 में अमेरिका की गेंहूं 70 प्रतिशत से ज़्यादा फसल मैककॉरमिक के मशीन से काटी गयी। गौरतलब बात यह हैं कि 1850 के दशक में अमेरिकी गेंहूं का उत्पादन 70 प्रतिशत बढ़ गया था। इस कृषि क्रान्ति ने मैककॉरमिक को मिलियनेयर और मशहूर बना दिया।

आगे ये भी पढ़ें: जॉन एच. जॉनसन सफल जीवनी

 

1861 में शुरू हुए अमेरिकी गृहयुद्ध के दौरान मशीनों की बिक्री कम हो गयी। यह देखकर मैककॉरमिक ने अपनी मशीन को यूरोप में लोकप्रिय करना शुरू किया 1870 तक हर साल 10,000 मशीनें बनने लगी। जब 1831 में मैककॉरमिक ने रीपर का आविष्कार किया था, उस समय अमेरिका के 80 प्रतिशत मजदूर खेती के काम में लगे रहते थे।

 

एक शताब्दी बाद 1930 में इस काम के लिए सिर्फ 2 प्रतिशत मजदूरों की जरूरत ही रह गयी। काफी हद तक यह Cyrus McCormick और उनके फसल काटने की मशीन की वजह से संभव हुआ था। मैककॉरमिक के आविष्कार का एक अप्रत्यक्ष परिणाम यह भी हुआ कि खेती में कम लोगों की जरूरत पड़ने से औद्योगिक क्रान्ति की रफ़्तार भी तेज हो गयी।

आगे ये भी पढ़ें: थॉमस बरेल जीवन एक सफलता अनेक

admin

आपने कीमती समय देकर ब्लॉग पढ़ा धन्यबाद, ये पोस्ट आपको पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले, ताकि इसे ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ें, अपना विचार जरूर लिखे, इससे हमें और ज्यादा अच्छी और लेटेस्ट जानकारियाँ लिखने के लिए प्रेरित करेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.